Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

संत कबीर

संत कबीर
नथिनी दीनी यार ने चिंतन कियो हजार ।
नाक दीनी करतार ने चिंतन दियो विसार ।

153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*Each moment again I save*
*Each moment again I save*
Poonam Matia
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
बहुत
बहुत
sushil sarna
"सुर्खी में आने और
*प्रणय प्रभात*
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
सरल जीवन
सरल जीवन
Brijesh Kumar
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*न धन-दौलत न पदवी के, तुम्हारे बस सहारे हैं (हिंदी गजल)*
*न धन-दौलत न पदवी के, तुम्हारे बस सहारे हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक मशाल तो जलाओ यारों
एक मशाल तो जलाओ यारों
नेताम आर सी
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
तू ने आवाज दी मुझको आना पड़ा
कृष्णकांत गुर्जर
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
*मनुष्य जब मरता है तब उसका कमाया हुआ धन घर में ही रह जाता है
Shashi kala vyas
मोहब्बत की आख़िरी हद, न कोई जान पाया,
मोहब्बत की आख़िरी हद, न कोई जान पाया,
Rituraj shivem verma
— ये नेता हाथ क्यूं जोड़ते हैं ??–
— ये नेता हाथ क्यूं जोड़ते हैं ??–
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
दोहा-
दोहा-
दुष्यन्त बाबा
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
नारी कब होगी अत्याचारों से मुक्त?
कवि रमेशराज
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...