Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Sep 2016 · 1 min read

संतोष

कुंडलिनी
वैभव पा कर क्या करे, जब है मृत्यु विराम।
खा ले सुख की रोटियां, हो जीवन सुख धाम।
हो जीवन सुख धाम, नित्य हों नूतन कलरव।
है मन का संतोष, मनुज का सच्चा वैभव।
अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव
ओ अच्छा मुस्कराती है वो फिर से रोने के बाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
Kishore Nigam
अंतरिक्ष
अंतरिक्ष
Saraswati Bajpai
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
* तुगलकी फरमान*
* तुगलकी फरमान*
Dushyant Kumar
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
*Author प्रणय प्रभात*
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मीठे बोल या मीठा जहर
मीठे बोल या मीठा जहर
विजय कुमार अग्रवाल
"मीलों में नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
Jyoti Khari
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*****हॄदय में राम*****
*****हॄदय में राम*****
Kavita Chouhan
My City
My City
Aman Kumar Holy
बस हौसला करके चलना
बस हौसला करके चलना
SATPAL CHAUHAN
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
जिंदगी एक सफ़र अपनी
जिंदगी एक सफ़र अपनी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अज़ीब था
अज़ीब था
Mahendra Narayan
अभी उम्मीद की खिड़की खुलेगी..
अभी उम्मीद की खिड़की खुलेगी..
Ranjana Verma
विद्या देती है विनय, शुद्ध  सुघर व्यवहार ।
विद्या देती है विनय, शुद्ध सुघर व्यवहार ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिखती  है  व्यवहार  में ,ये बात बहुत स्पष्ट
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...