Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

संतोष है खजाना

थोड़ा ही पढ़ो साजन , व्यवहार भी बनाना ।
छूटे न मैल तो फिर , बेकार है नहाना ।
आॅंखें खराब कर ली , घर में बने जनाना ।
पचपन के पार जाकर ,अब खुद को क्या सजाना ।।
अब पढ़ के क्या करोगे , चादर में ही समाना ।
कानून पढ़ के अब क्या , संतोष है खजाना ।।
है शायरी की धुन भी , नित ही नया तराना ।
हम धन की भूख छोड़ें , पर्याप्त है कमाना ।।
इस भाव पर एक पोएम याद आ गया ———
हैपी द मैन , हूज विज एण्ड केयर ,
सम पैटर्नल एकर्स बाउण्ड ,
काण्टेण्ट टू ब्रीद हिज नेटिव लैंड ,
इन हिज ओन ग्राउण्ड ।।
— कवि सर्वानन्द पाण्डेय , अविज्ञात ।

Language: Hindi
Tag: कविता
308 Views
You may also like:
विचार
Shyam Pandey
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
छठ महापर्व
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मां की महिमा
Shivraj Anand
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
" वर्ष 2023 धमाकेदार होगा बालीवुड बाक्स आफ़िस के लिए...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
विद्या:कविता
rekha mohan
उसकी सांसों में जान
Dr fauzia Naseem shad
यूं मरनें मारनें वाले।
Taj Mohammad
२४२. पर्व अनोखा
MSW Sunil SainiCENA
बंधन
Kaur Surinder
नौकरी-चाकरी पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऋतु बसन्त आने पर
gurudeenverma198
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
फिर जीवन पर धिक्कार मुझे
Ravi Yadav
🙏मॉं कात्यायनी🙏
पंकज कुमार कर्ण
*नोट :* यह समीक्षा *टैगोर काव्य गोष्ठी* , रामपुर के...
Ravi Prakash
गला रेत इंसान का,मार ठहाके हंसता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्लास विच हिन्दी बोलनी चाहिदी
विनोद सिल्ला
आस्तीक भाग-आठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
वक्त का लिहाज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अनुरोध
Rashmi Sanjay
एक ज़िंदा मौत
Shekhar Chandra Mitra
Loading...