Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

संगीत

तेरी बचपन की यादो मै
मै अभी भी जी रहा हूॅ
तू तो छोड गई तन्हा
उन यादो मे मै पी रहाहूॅ
तेरे बचपन के कल
मेरी गलियो मे आना
उन यादो को कैसे भूलाऊ
मेरी जान भी जाए। ।।
पर तूझे दिल से न भूल पाऊ। ।।
तेरी बचपन की यादो मै मैं अभी भी जी रहा हूॅ
तू तो। ।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।पी रहा हूॅ
तेरे बो रास्ते जहाॅ खेले हमी
वो बागो का कल और बारिस का जल
मै कैसे उसे भूल पाऊ मै तन्हा रहूॅ
तू हसती रहे मै कैसे उसे भूल पाऊ।।।।।
तेरे बचपन की यादो मे मै अभी भी पी रहा हूॅ
तूतो। ।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।पी रहा हूॅ
तेरे मेरे प्यार की कहानी
मै लोगो को कैसे बताऊ
चाहे तू मुझे भूल जा
पर तूझे मै न भूल पाऊ।।।।।।
तेरे बचपन की यादो मे मै अभी भी जी रहा हूॅ
तू तो। ।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।पी रहा हूॅ

Language: Hindi
2 Likes · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
अर्ज किया है जनाब
अर्ज किया है जनाब
शेखर सिंह
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
अपनेपन का मुखौटा
अपनेपन का मुखौटा
Manisha Manjari
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
/// जीवन ///
/// जीवन ///
जगदीश लववंशी
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ अवध की शाम
■ अवध की शाम
*Author प्रणय प्रभात*
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अक्स आंखों में तेरी है प्यार है जज्बात में। हर तरफ है जिक्र में तू,हर ज़ुबां की बात में।
अक्स आंखों में तेरी है प्यार है जज्बात में। हर तरफ है जिक्र में तू,हर ज़ुबां की बात में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
*आओ-आओ योग करें सब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
Suryakant Dwivedi
दिल का भी क्या कसूर है
दिल का भी क्या कसूर है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
***
*** " चौराहे पर...!!! "
VEDANTA PATEL
अवधी दोहा
अवधी दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
कितना भी दे  ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
कितना भी दे ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
Dr Archana Gupta
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
क्या तुम इंसान हो ?
क्या तुम इंसान हो ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
Loading...