Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

श्रृंगार

श्रृंगार

सबको पसंद है श्रृंगार
श्रृंगार बढ़ाती है सुंदरता I
लगने को सब सुन्दर
करते है खूब श्रृंगार I
नवयुवक युवती ही नहीं
बच्चे, बूढ़े भी करते हैं श्रृंगार I
पर महिलाओं की जान श्रृंगार
करती हैं नख-शिख तक श्रृंगार I
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
पृष्ठों पर बांँध से बांँधी गई नारी सरिता
Neelam Sharma
चलना था साथ
चलना था साथ
Dr fauzia Naseem shad
हसरतों के गांव में
हसरतों के गांव में
Harminder Kaur
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
जनाब पद का नहीं किरदार का गुरुर कीजिए,
शेखर सिंह
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
डूबता सुरज हूँ मैं
डूबता सुरज हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
सर्द हवाओं का मौसम
सर्द हवाओं का मौसम
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
सच का सच
सच का सच
डॉ० रोहित कौशिक
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
सार्थक जीवन
सार्थक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
****मतदान करो****
****मतदान करो****
Kavita Chouhan
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
#प्रभात_वंदन
#प्रभात_वंदन
*Author प्रणय प्रभात*
*Broken Chords*
*Broken Chords*
Poonam Matia
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
डॉ. ध्रुव की दृष्टि में कविता का अमृतस्वरूप
कवि रमेशराज
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
Anil Mishra Prahari
#शीर्षक:-बहकाना
#शीर्षक:-बहकाना
Pratibha Pandey
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3001.*पूर्णिका*
3001.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्तित्व की तलाश में
अस्तित्व की तलाश में
पूर्वार्थ
Loading...