Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 2 min read

श्री हनुमत् कथा भाग-7

श्रीहनुमत् कथा , भाग – 7
———————————
श्री हनुमानजी की बुद्धि , चातुर्य एवं अतुलित बल पर विश्वास करके श्री राम ने अपनी मुद्रिका प्रदान करते हुए उसे सीता जी को दिखाने के लिये कहा जिससे सीता जी का हनुमान जी पर विश्वास हो जाए ।सीताराम नमांकित उस मुद्रिका को लेकर हनुमान जी अंगद , जामवंत आदि बन्दर – भालओं के साथ श्री राम – लक्ष्मण को प्रणाम करके सीता अन्वेषण के लिए चल पडे़ । चलते समय सुग्रीव जी ने कहा कि एक माह में सीता अन्वेषण नहीं कर पाये तो प्राणदन्ड पाओगे । यह सुनकर वानर – भालुओं के अनेक समूह विभिन्न दिशाओं में फैल गये । हनुमानजी अंगद , जामवंत आदि के साथ दक्षिण दिशा में गये । सीमा अन्वेषण में लगे हुए वानर – भालू अति उत्साहित होकर दुर्गम पर्वत , वन , तालाब , कन्दराओं को लांघते हुए चले जा रहे थे । आगे चलकर उन्हें थकान एवं जोर से प्यास लगन लगी । यह देखकर हनुमानजी ने पहाड़ पर चढ़कर एक गुफा को देखा । उसके ऊपर हंस , चकवे ,वगुले् आदि जलचर पक्षी उड़ रहे हैं एवं कुछ पक्षी उसमें प्रवेश कर रहे हैं । हनुमानजी ने वानर – भालुओं के साथ उस गुफा में प्रवेश करके एक सुन्दर उपवन , तालाब एवं मन्दिर मे एक आसन पर बैठी हुई एक तपस्विनी को देखा जो हेमा नामक अप्सरा की सखी स्वयंप्रभा थी जिसके निर्देश पर सभी वानर – भालुओं ने स्नान , जलपान एवं सुन्दर मीठे फल खाकर थकान मिटाई । हनुमानजी के द्वारा सब बृत्तान्त जानकर उस तपस्वी ने अपने तप बल से उन्हें पलक झपकते ही समुद्र के किनारे पहुँचा दिया ।
:-डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Language: Hindi
358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
सर्दी में जलती हुई आग लगती हो
Jitendra Chhonkar
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
जो व्यक्ति अपने मन को नियंत्रित कर लेता है उसको दूसरा कोई कि
Rj Anand Prajapati
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
कुछ तो अच्छा छोड़ कर जाओ आप
Shyam Pandey
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
क्या ग़रीबी भी
क्या ग़रीबी भी
Dr fauzia Naseem shad
#इस_साल
#इस_साल
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
मेरे दिल के करीब आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
*ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं (गीत)*
*ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं (गीत)*
Ravi Prakash
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रंगों  में   यूँ  प्रेम   को   ऐसे   डालो   यार ।
रंगों में यूँ प्रेम को ऐसे डालो यार ।
Vijay kumar Pandey
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
नित्य करते जो व्यायाम ,
नित्य करते जो व्यायाम ,
Kumud Srivastava
2878.*पूर्णिका*
2878.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Bundeli Doha - birra
Bundeli Doha - birra
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
कुछ कहा मत करो
कुछ कहा मत करो
Dr. Sunita Singh
ना आप.. ना मैं...
ना आप.. ना मैं...
'अशांत' शेखर
एक नया अध्याय लिखूं
एक नया अध्याय लिखूं
Dr.Pratibha Prakash
खुदा के वास्ते
खुदा के वास्ते
shabina. Naaz
शासक सत्ता के भूखे हैं
शासक सत्ता के भूखे हैं
DrLakshman Jha Parimal
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
प्यार
प्यार
लक्ष्मी सिंह
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
Manisha Manjari
झूठ भी कितना अजीब है,
झूठ भी कितना अजीब है,
नेताम आर सी
Loading...