Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 4 min read

श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क

श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व का एक आश्चर्यजनक किस्सा
______________________________________
नवाब कल्बे अली खान रामपुर के उदारमना व्यक्तित्व के धनी शासक माने जाते हैं । आप से संबंधित चर्चा अकस्मात आज दिनांक 29 दिसंबर 2020 मंगलवार दोपहर चार बजे चंपा कुँवरी धर्मशाला , मिस्टन गंज में होने लगी । श्री सुन्दरलाल सिंघानिया राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी हैं । मुरादाबाद मंडल का कार्यभार देखते हैं ।आपने नवाब कल्बे अली खान के विषय में सुना हुआ एक किस्सा वर्णित किया ,जिसे सुनकर मैं भी आश्चर्यचकित रह गया ।
चर्चा का आरंभ इस बात से हुआ कि सुन्दरलाल सिंघानिया जी मुझसे इस बात की चर्चा करने लगे कि आपने बाबा लक्ष्मण दास की समाधि पर लगे हुए फारसी भाषा के पत्थर को पढ़ने के लिए जो प्रयत्न किया तथा रजा लाइब्रेरी में जाकर इस संबंध में शोध किया ,उससे मैं बहुत प्रभावित हुआ हूँ।
इसी तारतम्य में सुंदरलाल सिंघानिया जी ने बताया कि नवाब कल्बे अली खान के शासनकाल में कुछ व्यापारी रामपुर की सीमा पर रास्ता भटक गए और किसी भी प्रकार प्रयत्न करने पर भी उन्हें रामपुर में प्रवेश का द्वार नजर नहीं आया । जंगल में भटकते-भटकते वह एक स्थान पर पहुंचे जहाँ सात अलाव रखे हुए थे । उनमें से छह जल रहे थे तथा एक बगैर जला हुआ था। साधु – फकीर उनके आगे बैठे हुए थे । रास्ता भटके हुए व्यापारियों ने एक साधु-फकीर से रामपुर की सीमा में प्रवेश करने का रास्ता मालूम करने का निवेदन किया । साधु – फकीर ने एक कुत्ते को बुलाया और राहगीरों से कहा ” यह कुत्ता आपको रामपुर रियासत की सीमा में प्रवेश करा देगा । आप इसके पीछे-पीछे चलते रहिए । ..और हाँ ! ” -इतना कहकर उन्होंने एक मिट्टी की हाँडी उठाई उस पर कुछ लिखा और कहा “इस (हाँडी) हमारे उपहार को अपने नवाब साहब तक पहुँचा देना।”
व्यापारियों की समझ में कुछ नहीं आया। लेकिन वह उस हाँँडी को संभाल कर रखते हुए कुत्ते के पीछे पीछे चलते गए और कुत्ते ने सकुशल उन्हें रामपुर रियासत की सीमा के भीतर प्रवेश करा दिया। कुत्ते की उपस्थिति भी बड़े विचित्र रूप से सामने आई थी क्योंकि वह इससे पहले कहीं भी नहीं दिख रहा था ।
घर पहुंच कर व्यापारी सो गए । सुबह जब उठे तो इससे पहले कि वह उन साधु- फकीरों द्वारा नवाब साहब के लिए दिया गया उपहार जो कि एक मिट्टी की हाँडी थी और जिस पर कुछ लिखा हुआ था ,उसे नवाब साहब तक किस प्रकार से पहुँचाया जाए इस बारे में विचार करते , तभी नवाब साहब का एक संदेशवाहक उनके पास आया और कहने लगा ” साधु फकीरों ने नवाब साहब के लिए जो संदेश भेजा है , वह आप दे दीजिए ।”
सुनकर व्यापारी आश्चर्य में पड़ गए क्योंकि अभी रात की तो घटना थी और सीधे-सीधे वह घर आए थे तथा इस घटना का किसी से कोई उल्लेख भी नहीं हो पाया था । ऐसे में नवाब साहब तक यह सूचना कैसे पहुंच गई ,यह उनकी समझ से परे था। विचार की गहराइयों में न जाते हुए उन्होंने वह उपहार नवाब साहब द्वारा भेजे गए व्यक्ति को सौंप दिया ।
यह घटना सुनाकर श्री सुंदरलाल सिंघानिया मौन हो गए । मैंने इस पर प्रश्न किया “इसका अर्थ यह है कि नवाब कल्बे अली खाँ दिव्य व्यक्तित्व के स्वामी थे तथा आध्यात्मिक शक्तियों से ओतप्रोत थे ? ”
इस पर श्री सुन्दरलाल सिंघानिया ने कहा कि वह इस बारे में अधिक नहीं कह सकते । उन्हें जो कुछ भी सुनने में आया था वह उन्होंने सुना हुआ वृत्तांत वर्णित किया है। इस पर मैंने विषय को आगे बढ़ाते हुए यह कहा कि रामपुर में सौ वर्ष के उपरांत जो पहला मंदिर शिवालय के रूप में निर्मित हुआ था ,वह भी नवाब कल्बे अली खान के शासनकाल में ही निर्मित हुआ था । जिस गली में वह मंदिर बना, उसका नाम मंदिरवाली गली पड़ गया । नवाब कल्बे अली खान ने भारी विरोध तथा दबाव के बावजूद मंदिर के निर्माण में रुचि ली तथा यह उनकी उदारता का एक स्वर्णिम पक्ष है।
बहरहाल यह तो निश्चित है कि नवाब कल्बे अली खान फारसी भाषा तथा काव्य – रचना के धनी थे । उन्होंने फारसी भाषा में एक कविता – संग्रह तैयार किया था तथा उसे समीक्षा के लिए ईरान भेजा था। वहाँ पर विद्वानों ने उसकी काफी प्रशंसा की थी। इस तरह रामपुर रियासत में फारसी भाषा तथा साहित्य के उन्नयन की दृष्टि से भी नवाब कल्बे अली खान का शासनकाल अत्यंत महत्वपूर्ण है । आपने 1865 से 1887 ईसवी तक रामपुर में शासन किया था । बाबा लक्ष्मण दास ने 1893 ईसवी में समाधि ली थी । इस तरह आप तथा नवाब कल्बे अली खान समकालीन थे । फारसी भाषा में समाधि पर पत्थर का लिखा जाना इस बात को इंगित करता है कि लोकजीवन में फारसी भाषा का प्रयोग नवाब कल्बे अली अली खान के शासनकाल में कितना बढ़ चुका था ।
आप ही के शासनकाल में श्री बलदेव दास चौबे द्वारा फारसी भाषा के सुप्रसिद्ध कवि शेख सादी की पुस्तक करीमा का फारसी से हिंदी में अनुवाद ” नीति प्रकाश” नाम से किया गया था ,जिसे रूहेलखंड लिटरेरी प्रेस द्वारा प्रकाशित किया गया । यह भी हिंदी की साहित्यिक गतिविधियों के प्रचार और प्रसार में नवाब कल्बे अली खाँ के योगदान का प्रमाण है।
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
लेखक : रवि प्रकाश ,
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
Rajesh vyas
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
एहसास
एहसास
Shutisha Rajput
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/108.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
*अग्रसेन ने ध्वजा मनुज, आदर्शों की फहराई (मुक्तक)*
Ravi Prakash
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
राधा-कृष्ण के प्यार
राधा-कृष्ण के प्यार
Shekhar Chandra Mitra
लड़का हो या लड़की ये दोनो एक किताब की तरह है ये अपने जीवन का
लड़का हो या लड़की ये दोनो एक किताब की तरह है ये अपने जीवन का
पूर्वार्थ
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
प्रकृति (द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
लाख दुआएं दूंगा मैं अब टूटे दिल से
Shivkumar Bilagrami
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
मनांतर🙏
मनांतर🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिंदगी बस एक सोच है।
जिंदगी बस एक सोच है।
Neeraj Agarwal
"कब तक छुपाहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
“मृदुलता”
“मृदुलता”
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-355💐
💐प्रेम कौतुक-355💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चल पनघट की ओर सखी।
चल पनघट की ओर सखी।
Anil Mishra Prahari
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
कमबख्त ये दिल जिसे अपना समझा,वो बेवफा निकला।
Sandeep Mishra
जन्म दायनी माँ
जन्म दायनी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
Loading...