Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2022 · 1 min read

श्री राम के आदर्श

पहुंचे है भगवान आज
अपने निज धाम
जलाओ दीप घर में आज
आए हैं प्रभु राम

किया अधर्म का विनाश भी
मांगे रावण भी जीवन की भीख
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का
आचरण ही है उनकी असली सीख

राज पाठ को त्यागकर
गए थे वो वनवास
बढ़ गया था अधर्म जब
प्रभु से थी बस आस

मारा था जब खर दूषण को
हो गया था आभास
अयोध्या वासियों सहित देवों को भी
उन पर था पूर्ण विश्वास

चाहते जो वो अगर सीता जी को
तुरंत लंका से वापिस ले आते
तोड़ देते मर्यादा इंसान की अगर
मर्यादा पुरुषोत्तम कैसे कहलाते

मंज़िल ही नहीं रास्ता भी धर्म का हो
चाहे उसमें कितने ही कष्ट हो
सीख दी है श्री राम ने सत्य पर चलने की
चाहे सत्य की राह में कितने ही कष्ट हो

अधर्म कितना ही ताकतवर हो
उससे दूर ही रहना चाहिए
सुग्रीव और बालि में चुनना हो तो
सुग्रीव को ही चुनना चाहिए

वस्तुओं की कीमत की नहीं,
भावनाओं की कद्र होनी चाहिए
राजा महाराजाओं से करीबी ही नहीं
केवट की भी कद्र होनी चाहिए

आत्मसाध कर लें कुछ गुण
श्री राम के अगर हम
दिवाली मनाना सार्थक होगा
मिट जायेगा जीवन से तम।

Language: Hindi
17 Likes · 4 Comments · 1647 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
2789. *पूर्णिका*
2789. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
भूल जा वह जो कल किया
भूल जा वह जो कल किया
gurudeenverma198
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
काली छाया का रहस्य - कहानी
काली छाया का रहस्य - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
"आत्मा की वीणा"
Dr. Kishan tandon kranti
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदगी तुझको
ज़िंदगी तुझको
Dr fauzia Naseem shad
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दरकती है उम्मीदें
दरकती है उम्मीदें
Surinder blackpen
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
विजयी
विजयी
Raju Gajbhiye
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...