Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

श्री राम अयोध्या आए है

आओ मिलकर दीप जलाएं,
श्री राम अयोध्या आए है।
वर्षो की अभिलाषा पूर्ण हुई,
आज श्री राम घर आए है।।

हो रही है जय जयकार,
सुनाई दे रहा राम नाम ।
शंख ध्वनि और मंगल गान,
मंदिर मंदिर गूंजे जय श्री राम।।

घर घर आज बने है अयोध्या,
मेरे रामलला घर आए है।
धन्य धन्य है भाग हमारे,
जो यह हम सब देख पाए है ।।
—— जेपी लववंशी

Language: Hindi
73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
अपवाद
अपवाद
Dr. Kishan tandon kranti
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
ज़िन्दगी में सभी के कई राज़ हैं ।
Arvind trivedi
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
🌷ज़िंदगी के रंग🌷
पंकज कुमार कर्ण
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
Not only doctors but also cheater opens eyes.
Not only doctors but also cheater opens eyes.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐रे मनुष्य💐
💐रे मनुष्य💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
Ashish shukla
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
* बहुत खुशहाल है साम्राज्य उसका
Shubham Pandey (S P)
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
ख़्वाबों की दुनिया
ख़्वाबों की दुनिया
Dr fauzia Naseem shad
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज देव दीपावली...
आज देव दीपावली...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
कवि दीपक बवेजा
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
कुछ दर्द।
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
समय बहुत है,
समय बहुत है,
Parvat Singh Rajput
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...