Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

…. श्री कृष्ण वंदना …

…… श्री कृष्ण वन्दना….

यदु- नन्द नन्दन देवकी- वसुदेव नन्दन वन्दनम् ।
मृदु चपल नयननम् चंचलम् मनमोहनम् अभिनन्दनम् ।।
मस्तक मुकुट पर- मोर , कर मुरली मधुर धर मंगलम् ।
तन पीत अम्बर वैजयन्ती कण्ठ , कर्णम् कुण्डलम् । ।
गौ ग्वाल गोकुल गोपियाँ , जल जमुन गिरि गोवर्धनम् ।
शुचि बाल कौतुक चरित पावन , असुर- रिपु- दल भन्जनम् ।।
स्वर्णिम प्रभा सुषमा सुखदतम् नील वर्णम् सुन्दरम् ।
वह धन्य है बृज- भूमि जहँ कण- कण रमे राधेश्वरम् ।।
कुरुक्षेत्र सारथि- पार्थ नायक महाभारत श्रेष्ठतम् ।
सर्वत्र तुम ही विराट हो सर्वज्ञ भी अति सूक्ष्मतम् ।।
उपदेश प्रेरित सजग गीता- ज्ञान अर्जुन केशवम् ।
अवतार जगदाधार नव उत्थान सन्त सनातनम् ।।
क्षिति शेष पद्मा पद्म कर गद शंख चक्र- सुदर्शनम् ।
मति भ्रमित भौतिक भोग भव अनुरक्त मन कामायनम् ।।
चिर- भक्ति सर्व समर्पितम् उद्घोष जय जगदीश्वरम् ।
प्रति- श्वाँस हृदय सुवास हो दृग- दर्श हे! करुणाकरम् ।।
मम् मुदित मन- मन्दिर बसो हे ! सतत् श्यामा श्यामलम् ।
सद्बुद्धि सद्गति प्राप्य हो उद्धार भक्त- सुवत्सलम् ।।
योगेश्वरम् सर्वेश्वरम् राधेरमण ब्रजभूषणम् ।
हे! माधवम् मधुसूदनम् जय जयति जय नारायणम् ।।

डा. उमेश चन्द्र श्रीवास्तव
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 3 Comments · 9516 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
Bhupendra Rawat
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
// जय श्रीराम //
// जय श्रीराम //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सितारों के बगैर
सितारों के बगैर
Satish Srijan
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
मस्ती के मौसम में आता, फागुन का त्योहार (हिंदी गजल/ गीतिका)
मस्ती के मौसम में आता, फागुन का त्योहार (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
लब्ज़ परखने वाले अक्सर,
ओसमणी साहू 'ओश'
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
मणिपुर कौन बचाए..??
मणिपुर कौन बचाए..??
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
सवर्ण
सवर्ण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
जहांँ कुछ भी नहीं दिखता ..!
Ranjana Verma
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
आव्हान
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
जिंदगी जी कुछ अपनों में...
Umender kumar
Loading...