Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2023 · 1 min read

श्रम करो! रुकना नहीं है।

#श्रम_करो! रुकना नहीं है।
~~~~~~~~~~~~~~~~
भाग्य हो उन्नति सुनो विश्राम को झुकना नहीं है,
श्रम करो! रुकना नहीं है।

पंथ में पाषाण हो या कण चुभे पग रक्तरंजित,
भेद कर हर एक बाधा कर नवल तू वेध्य अर्जित।
वेदना की नीरनिधि में अब नहीं गोते लगाना,
साधना हर लक्ष्य दुष्कर मन नवल उर्जा जगाना।

भाग्य हो सन्नति सुनो! विश्राम को झुकना नहीं है,
श्रम करो! रुकना नहीं है।

बोध से हर एक बाधा ध्वस्त हो सङ्कल्प ले लो,
स्वास्थ्य भी सुखकर रहे विश्राम केवल अल्प ले लो।
फिर नवागत लक्ष्य के नित प्रण करो श्रम साध लो तुम,
हो प्रयोजन सिद्ध खातिर मन को अपने बाँध लो तुम।

भाग्य सम्मुख नति सुनो! विश्राम को झुकना नहीं है,
श्रम करो! रुकना नहीं है।

कर्म को पूजा बना लो निज हृदय यह भाव भर लो,
ठोकरों से जो मिला है सद्य ही वह घाव भर लो।
मत करो गुणगान उनका जो परिश्रम त्याग देते,
है मिला वरदान जीवन मुख वो इसके आग देते।

विधि न हो अवनति सुनो! विश्राम को झुकना नहीं है,
श्रम करो! रुकना नहीं है।

भाग्य का करके भरोसा, देख तू मत बैठ जाना,
विधि मिली उत्तम अलौकिक सोच यह मत ऐंठ जाना।
भाग्य के ही बस भरोसे आज तक जो सुप्त है वह,
सत्य ही श्रमहीन प्राणी इस जगत से लुप्त है वह।

है यही बहुमत सुनो! विश्राम को झुकना नहीं है,
श्रम करो! रुकना नहीं है।।

संजीव शुक्ल ‘सचिन’ (नादान)
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
तुझसे वास्ता था,है और रहेगा
Keshav kishor Kumar
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
एक बार नहीं, हर बार मैं
एक बार नहीं, हर बार मैं
gurudeenverma198
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
मन के मंदिर में
मन के मंदिर में
Divya Mishra
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
लौह पुरुष - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
आधुनिक नारी
आधुनिक नारी
Dr. Kishan tandon kranti
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
मोदी जी ; देश के प्रति समर्पित
कवि अनिल कुमार पँचोली
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
प्रकृति का बलात्कार
प्रकृति का बलात्कार
Atul "Krishn"
तौलकर बोलना औरों को
तौलकर बोलना औरों को
DrLakshman Jha Parimal
आज मन उदास है
आज मन उदास है
Shweta Soni
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
देश हे अपना
देश हे अपना
Swami Ganganiya
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
साल गिरह की मुबारक बाद तो सब दे रहे है
shabina. Naaz
कुछ पल
कुछ पल
Mahender Singh
मानसिकता का प्रभाव
मानसिकता का प्रभाव
Anil chobisa
Loading...