Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2023 · 1 min read

*श्रमिक मजदूर*

श्रमिक मजदूर
जीविकोपार्जन के लिए प्रत्येक मनुष्य संघर्ष करता है इस समय पूरे विश्व में केरोना विषाणु के कारण चारो ओर कोहराम मचा हुआ है इस संक्रमण के कारण बहुत से लोग बेघर हो पूरे परिवार सहित इधर उधर भटकते नजर आ रहे हैं।
एक श्रमिक वर्ग का मजदूर पाईप में ऊपर गुमसुम उदास बैठा हुआ है उसकी नीरस आंखे काम की तलाश में टकटकी लगाए बैठा हुआ है ….! ! ! काश कुछ काम मिल जाये उससे कुछ पैसे हाथ मे आये उससे अनाज खरीदकर भूखे प्यासे बीबी बच्चों को खाना मिल जाये ….
रहने को घर नहीं ,खाने को भोजन नहीं , पहनने को कपड़े नहीं, एक पाईप का सहारा लिए बेसहारा भूखे प्यासे एक दूसरे के साथ आस लगाए बैठे हुए हैं ……
जीवन जीने का सहारा
शशिकला व्यास

Language: Hindi
336 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
ज़िंदगी मायने बदल देगी
Dr fauzia Naseem shad
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
एक सबक इश्क का होना
एक सबक इश्क का होना
AMRESH KUMAR VERMA
2651.पूर्णिका
2651.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
😊
😊
*Author प्रणय प्रभात*
नुकसान हो या मुनाफा हो
नुकसान हो या मुनाफा हो
Manoj Mahato
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...