Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2017 · 1 min read

श्याम और राधा (प्रथम बार)

देखत नैना श्याम के, राधा है हरषाय।
ऐसे मंजुल सुमन तो, मानस* भी नहिं पाय॥
****************************
हिरदय में हिलोर रही, प्रेम लहरें अपार।
वृषभानुजा पूछ रही, कान्हा कौन कुमार॥
****************************
मनहर छवि को देखकर, राधा गई लजाय।
मोहन मानो काम सम, धीरज रही गँवाय॥
****************************
अनुपम मेरे श्याम हैं, राधा मोहे रूप।
मेरे भव बंधन तजो, सगरे जग के भूप॥
सोनू हंस

*मानस- मानसरोवर झील

Language: Hindi
206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
पतंग
पतंग
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
मैं बेबाक हूँ इसीलिए तो लोग चिढ़ते हैं
मैं बेबाक हूँ इसीलिए तो लोग चिढ़ते हैं
VINOD CHAUHAN
ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी में
Santosh Shrivastava
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
"रिश्ते टूट जाते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बृद्ध  हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
बृद्ध हुआ मन आज अभी, पर यौवन का मधुमास न भूला।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इंसान
इंसान
Bodhisatva kastooriya
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
*सौभाग्य*
*सौभाग्य*
Harminder Kaur
पर्यावरण
पर्यावरण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं शायर भी हूँ,
मैं शायर भी हूँ,
Dr. Man Mohan Krishna
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
3260.*पूर्णिका*
3260.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
Manisha Manjari
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
बादल छाये,  नील  गगन में
बादल छाये, नील गगन में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
— बेटे की ख़ुशी ही क्यूं —??
— बेटे की ख़ुशी ही क्यूं —??
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...