Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 4, 2019 · 1 min read

शौर्य गाथा

उठ जागा वीर सपूतों ने
मुँहतोड़ जवाब दिया
जो कायराना काम किया था कुतो ने ।

हम वीर शहीदों के अमर कहानी हैं
शौर्य-पराक्रम के अमिट निशानी हैं

ओज उत्साह से भरे हुए हम
फिर भी शांति -संदेश फैलाते हैं,
दानवता की पृष्ठभूमि पर
मानवता के परचम लहराते हैं ,

पर नासमझ जो समझ सके न
उसको सबक सिखाते हैं,
चकनाचूर कर देते हैं
दुश्मन के नापाक इरादों को
फिर अपनी शरण में लाते हैं ।

बुलंद इरादों के स्वामी हैं हम
युद्ध के नही कामी हैं हम
सागर सा गहरा
त्याग करुणा से भरा

फिर भी ईंट का बदला पत्थर से लेते हैं
बाज न आए जो अपनी हरकतों से,
उसको जख्म गहरा देते हैं ।

जय हिन्द।
जय जवान ।

साहिल…..

767 Views
You may also like:
कारे कारे बदरा जाओ साजन के पास
Ram Krishan Rastogi
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
अदीब लगता नही है कोई।
Taj Mohammad
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
श्रावण गीत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
✍️निज़ाम✍️
'अशांत' शेखर
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
*** " चिड़िया : घोंसला अब बनाऊँ कहाँ....??? " ***
VEDANTA PATEL
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
चिड़ियाँ
Anamika Singh
" IDENTITY "
DrLakshman Jha Parimal
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
'अशांत' शेखर
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग्रामीण चेतना के महाकवि रामइकबाल सिंह ‘राकेश
श्रीहर्ष आचार्य
Loading...