Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2019 · 1 min read

शौर्य गाथा

उठ जागा वीर सपूतों ने
मुँहतोड़ जवाब दिया
जो कायराना काम किया था कुतो ने ।

हम वीर शहीदों के अमर कहानी हैं
शौर्य-पराक्रम के अमिट निशानी हैं

ओज उत्साह से भरे हुए हम
फिर भी शांति -संदेश फैलाते हैं,
दानवता की पृष्ठभूमि पर
मानवता के परचम लहराते हैं ,

पर नासमझ जो समझ सके न
उसको सबक सिखाते हैं,
चकनाचूर कर देते हैं
दुश्मन के नापाक इरादों को
फिर अपनी शरण में लाते हैं ।

बुलंद इरादों के स्वामी हैं हम
युद्ध के नही कामी हैं हम
सागर सा गहरा
त्याग करुणा से भरा

फिर भी ईंट का बदला पत्थर से लेते हैं
बाज न आए जो अपनी हरकतों से,
उसको जख्म गहरा देते हैं ।

जय हिन्द।
जय जवान ।

साहिल…..

Language: Hindi
1545 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from साहिल
View all
You may also like:
2824. *पूर्णिका*
2824. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
🌹ओ साहिब जी,तुम मेरे दिल में जँचे हो🌹
🌹ओ साहिब जी,तुम मेरे दिल में जँचे हो🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
फैसला
फैसला
Dr. Kishan tandon kranti
*बहू हो तो ऐसी【लघुकथा 】*
*बहू हो तो ऐसी【लघुकथा 】*
Ravi Prakash
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr Shweta sood
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
जीवन में दिन चार मिलें है,
जीवन में दिन चार मिलें है,
Satish Srijan
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
डॉ० रोहित कौशिक
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mayank Kumar
"नए सवेरे की खुशी" (The Joy of a New Morning)
Sidhartha Mishra
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुकुमारी जो है जनकदुलारी है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...