Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2017 · 1 min read

शौचालय बनवा लो

गाँव गांव की गली गली में, घर घर में लिखवा लो।
शौचालय बनवा लो बाबा, शौचालय बनवा लो।।

भोर सबेरे बेटी बहुएं खुले शौच को जाती।
गली खेत और खुली जगह में शर्म उन्हें हैं आती।।
बारह हजार सरकार दे रही, कुछ घर से लगवा लो।
शौचालय बनवा लो बाबा, शौचालय बनवा लो।।

बिटिया बोल रही पापा से घर में हो शौचालय।
जंगल झाड़ी में जाने को जी लगता हमको है भय।।
आज अभी और इसी वक्त में काम शुरू करवा लो।
शौचालय बनवा लो बाबा, शौचालय बनवा लो।।

खुले शौच पर मक्खी बैठे, गंदे पाँव हैं करती।
गंदे पाँव वही मक्खी फिर भोजन पर है धरती।।
भोजन के संग रोगाणु से हम सब को बचवा लो।
शौचालय बनवा लो बाबा, शौचालय बनवा लो।।

कुछ घर से कुछ मजदूरी से गढ्ढा गोल बना लो।
कुछ गिट्टी कुछ रेत ईट अरु कुछ सीमेंट मंगा लो।।
ईटा मिस्त्री से ईटों को जल्दी से जुड़वा लो।
शौचालय बनवा लो बाबा, शौचालय बनवा लो।।

मानो बाबा मानो बाबा कुछ अपनी भी मानो।
शासन की उपयोगी मंशा को बाबा पहचानों।।
घर में शौचालय बनवाने बाबा को मनवा लो।
शौचालय बनवा लो बाबा, शौचालय बनवा लो।।

-साहेबलाल ‘सरल’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 1473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो मुझे
वो मुझे "चिराग़" की ख़ैरात" दे रहा है
Dr Tabassum Jahan
पापा
पापा
Kanchan Khanna
रात के सितारे
रात के सितारे
Neeraj Agarwal
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
Shweta Soni
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
दीपोत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभ मंगलकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
👌👌👌
👌👌👌
*Author प्रणय प्रभात*
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
इसके जैसा
इसके जैसा
Dr fauzia Naseem shad
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
जच्चा-बच्चासेंटर
जच्चा-बच्चासेंटर
Ravi Prakash
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
DrLakshman Jha Parimal
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
LOVE-LORN !
LOVE-LORN !
Ahtesham Ahmad
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
Buddha Prakash
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
आओ सजन प्यारे
आओ सजन प्यारे
Pratibha Pandey
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
कचनार
कचनार
Mohan Pandey
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"जल"
Dr. Kishan tandon kranti
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
A Dream In The Oceanfront
A Dream In The Oceanfront
Natasha Stephen
Loading...