Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

शेर

लाल माँ के मार दीये कायरों से आज फिर
छीन ली मुसकाँ जवानों के घरों से आज फिर

गोद माँ की छोड़ कर जो इस जहाँ से अब चले
बीतती दिल पर पूछे क्या औरतों से आज फिर

तुम सबक इन जालिमों को क्यों सिखा देते नहीं
वार छिप करते पुछे इन बुजदिलों से आज फिर

चुन कमीनों को सजा दें फंदे पर लटका अभी
छोड़ शान्ति अब ले बदला मुश्किलों से आज फिर

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
Tag: शेर
73 Likes · 302 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
*मशहूर लोग( कुंडलिया )*
*मशहूर लोग( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-306💐
💐प्रेम कौतुक-306💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
धूर्ततापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
सच की पेशी
सच की पेशी
Suryakant Dwivedi
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
उड़े  हैं  रंग  फागुन के  हुआ रंगीन  है जीवन
उड़े हैं रंग फागुन के हुआ रंगीन है जीवन
Dr Archana Gupta
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
दुष्यन्त 'बाबा'
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
भारत भूमि में पग पग घूमे ।
Buddha Prakash
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
दिल में जो आता है।
दिल में जो आता है।
Taj Mohammad
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
दिल की दहलीज पर कदमों के निशा आज भी है
दिल की दहलीज पर कदमों के निशा आज भी है
कवि दीपक बवेजा
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
देश की हालात
देश की हालात
Dr. Man Mohan Krishna
2819. *पूर्णिका*
2819. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
नव लेखिका
फांसी के फंदे से
फांसी के फंदे से
Shekhar Chandra Mitra
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
Anil chobisa
बाल कविता : बादल
बाल कविता : बादल
Rajesh Kumar Arjun
Loading...