Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 21, 2016 · 1 min read

शे’र

मेरे मालिक तिरा मुझपे एहसान है
मैं था मिट्टी मुझे कूज़ागर मिल गया

@ नज़ीर नज़र

202 Views
You may also like:
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
पिता
Ram Krishan Rastogi
पिता
Mamta Rani
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
पिता
Dr. Kishan Karigar
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...