Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 9, 2016 · 2 min read

तांटक छंद :– बहुत हुआ समझौता अब ऐ पाक तुम्हारी बारी है !!

पाक तुम्हारी बारी है ……!!

बहुत हुए समझौते अब सुन पाक तुम्हारी बारी है ?
हमने भाई समझा लेकिन ,तुझमे बस मक्कारी है ॥

बहुत लड़ाई की जो तूने ,कायर बेईमानी से ।
जंग कहा इसको जो तूने, जंग नहीँ ये गद्दारी है ॥

तेरी नापाक इरादो का , जब उफान भर आयेगा ।
जरा सा फूकार दिया हमने ,तूफान खड़ा हो जायेगा ॥

पहचान बदल देंगे तेरी ,भौगोलिक हर मापों से ।
कश्मीर हथियाने का तेरा , अरमान धरा रह जायेगा ॥

अब तक तुझे जो बख्श दिया, ये अपनी खुद्दारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

है गुरूर इतना अगर , ऐ पाक तुझे इस्लाम पर ।
आकर भारत की सीमा मे , अब जंग का ऐलान कर ॥

कराची को चाची बना फ़िर ,हम चरखा पकड़ाएगे ।
काबुल को बुलबुल बना कर , ब्याह रचा घर लाएंगे ॥

हर बार जंग कर देख लिया , तेरी सेना ही हारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

गर तूने ये आंख दिखाई , अब हम आँखें नोचेंगे।
तेरे तसब्बुर से वहीं पर तुझे ही धर दबोचेंगे ॥

फिर आकर कितनी भी चाहे रहम की भीख मागे तू ।
भूल कर इन्सानियत को हम जख्म तेरे खरोचेंगे ॥

बिना लात के बात न माने , तू ऐसा धुत्कारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

चहक रहा था बचपन हरदम आज वहाँ खामोशी है ।
सारी हदें ये तोड़ कर तू इन्सानियत का दोशी है ॥

कभी अहमियत ना समझा तू नातों की ना सरहद की ।
भाई कभी ना बन सका तू ,ना तू नेक पड़ोसी है ॥

हर इक वीर यहाँ का हरदम होता आज्ञाकारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

अपने घर मे फन फैलाए वो अडियल है सैतानी ।
काश्मीर की जंग छेड़ कर , करता हमसे खीचातानी ॥

आज हमारी हर अस्मत पर घात लगाए बैठा है ।
इंतिकाम का वक्त आ गया , जागो प्यारे हिन्दुस्तानी ॥

आज हमारे सीने में तो धधक रही चिंगारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

✍?Anuj Tiwari

2 Likes · 16 Comments · 5846 Views
You may also like:
समय ।
Kanchan sarda Malu
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
अनमोल राजू
Anamika Singh
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
इंतजार
Anamika Singh
दहेज़
आकाश महेशपुरी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
माँ
आकाश महेशपुरी
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
अधुरा सपना
Anamika Singh
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...