Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2016 · 2 min read

तांटक छंद :– बहुत हुआ समझौता अब ऐ पाक तुम्हारी बारी है !!

पाक तुम्हारी बारी है ……!!

बहुत हुए समझौते अब सुन पाक तुम्हारी बारी है ?
हमने भाई समझा लेकिन ,तुझमे बस मक्कारी है ॥

बहुत लड़ाई की जो तूने ,कायर बेईमानी से ।
जंग कहा इसको जो तूने, जंग नहीँ ये गद्दारी है ॥

तेरी नापाक इरादो का , जब उफान भर आयेगा ।
जरा सा फूकार दिया हमने ,तूफान खड़ा हो जायेगा ॥

पहचान बदल देंगे तेरी ,भौगोलिक हर मापों से ।
कश्मीर हथियाने का तेरा , अरमान धरा रह जायेगा ॥

अब तक तुझे जो बख्श दिया, ये अपनी खुद्दारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

है गुरूर इतना अगर , ऐ पाक तुझे इस्लाम पर ।
आकर भारत की सीमा मे , अब जंग का ऐलान कर ॥

कराची को चाची बना फ़िर ,हम चरखा पकड़ाएगे ।
काबुल को बुलबुल बना कर , ब्याह रचा घर लाएंगे ॥

हर बार जंग कर देख लिया , तेरी सेना ही हारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

गर तूने ये आंख दिखाई , अब हम आँखें नोचेंगे।
तेरे तसब्बुर से वहीं पर तुझे ही धर दबोचेंगे ॥

फिर आकर कितनी भी चाहे रहम की भीख मागे तू ।
भूल कर इन्सानियत को हम जख्म तेरे खरोचेंगे ॥

बिना लात के बात न माने , तू ऐसा धुत्कारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

चहक रहा था बचपन हरदम आज वहाँ खामोशी है ।
सारी हदें ये तोड़ कर तू इन्सानियत का दोशी है ॥

कभी अहमियत ना समझा तू नातों की ना सरहद की ।
भाई कभी ना बन सका तू ,ना तू नेक पड़ोसी है ॥

हर इक वीर यहाँ का हरदम होता आज्ञाकारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

अपने घर मे फन फैलाए वो अडियल है सैतानी ।
काश्मीर की जंग छेड़ कर , करता हमसे खीचातानी ॥

आज हमारी हर अस्मत पर घात लगाए बैठा है ।
इंतिकाम का वक्त आ गया , जागो प्यारे हिन्दुस्तानी ॥

आज हमारे सीने में तो धधक रही चिंगारी है ।
हमनें भाई समझा लेकिन तुझमे बस मक्कारी है ॥

✍?Anuj Tiwari

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 16 Comments · 5938 Views
You may also like:
💐💐परेसां न हो हश्र बहुत हसीं होगा💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
फिर से सतयुग भू पर लाओ
AJAY AMITABH SUMAN
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
भोक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
अश्क़
Satish Srijan
भूख (मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
पुरानी हवेली
Shekhar Chandra Mitra
सजा मिली है।
Taj Mohammad
पढ़े लिखे खाली घूमे,अनपढ़ करे राज (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
कोई भी रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
समाजसेवा
Kanchan Khanna
कविता
Mahendra Narayan
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
Ravi Prakash
बावरी बातें
Rashmi Sanjay
चांद बहुत रोया
Kaur Surinder
सोचना है तो मेरे यार इस क़दर सोचो
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भरमा रहा है मुझको तेरे हुस्न का बादल।
सत्य कुमार प्रेमी
‘कन्याभ्रूण’ आखिर ये हत्याएँ क्यों ?
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
पिता बच्चों का सम्पूर्ण इतिहाश है
AADYA PRODUCTION
Love never be painful
Buddha Prakash
Loading...