Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

शून्य ही सत्य

बड़ा बेचैन है बड़ा उदास सा खड़ा वो इंसान,
लड़कर जिंदगी से जुटा रहा जीने का सामान।
रहा सोच बनाऊं खुद को समाज में मैं ऊंचा,
पाकर चंद सिक्के ज्यादा कर रहा अभिमान।

अटहास कर रहा है समय उसकी हर बात पर,
ठहरा कुछ नही किसी का मेरे ढलते अंदाज पर ।
आकर फिर वहीं पड़ा है इंसान लेकर के गुरुर,
तन की राख कह रही शून्य में छिपा है हर नूर।

कंचन वर्मा
शाहजहांपुर
उत्तर प्रदेश

37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
शेखर सिंह
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
“जब से विराजे श्रीराम,
“जब से विराजे श्रीराम,
Dr. Vaishali Verma
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
दोस्ती देने लगे जब भी फ़रेब..
अश्क चिरैयाकोटी
इसके जैसा
इसके जैसा
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
पिता का बेटी को पत्र
पिता का बेटी को पत्र
प्रीतम श्रावस्तवी
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
__________सुविचार_____________
__________सुविचार_____________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त ए रूखसती पर उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
Anil Mishra Prahari
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
पिता
पिता
Swami Ganganiya
इतना कभी ना खींचिए कि
इतना कभी ना खींचिए कि
Paras Nath Jha
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
नहीं टूटे कभी जो मुश्किलों से
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...