Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

शुभ रात्रि मित्रों

शुभ रात्रि मित्रों
सवेरा हर नया आए लिए पहचान नव कोई
नहीं सोना लिए चिंता सजा सपनों का भव कोई/1

नहीं कल का पता जिसको नहीं पल का पता जिसको
यहाँ इंसान जीता क्यों लिए दिल में है रव कोई/2

शब्दार्थ- नव-नया, भव-संसार, रव-शोर-शराबा
शायर- आर.एस.’प्रीतम’

1 Like · 671 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
"रियायत के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
2329. पूर्णिका
2329. पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
बहुत मशरूफ जमाना है
बहुत मशरूफ जमाना है
नूरफातिमा खातून नूरी
शुद्ध
शुद्ध
Dr.Priya Soni Khare
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
#आह्वान_तंत्र_का
#आह्वान_तंत्र_का
*Author प्रणय प्रभात*
आक्रोश प्रेम का
आक्रोश प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
*”ममता”* पार्ट-1
*”ममता”* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
माफिया
माफिया
Sanjay ' शून्य'
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
वफादारी का ईनाम
वफादारी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
Anil chobisa
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ओसमणी साहू 'ओश'
अवसाद का इलाज़
अवसाद का इलाज़
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*दादा-दादी (बाल कविता)*
*दादा-दादी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आया सखी बसंत...!
आया सखी बसंत...!
Neelam Sharma
जवाब दो हम सवाल देंगे।
जवाब दो हम सवाल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
हत्या-अभ्यस्त अपराधी सा मुख मेरा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...