Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं

मंगल हुई सभी दिशाएं
अष्टमी कन्या पूजन से देवी मां प्रसन्न हुई।

नवमी तिथि श्रीराम जन्म से वसुन्धरा प्रपन्न हुई
हरियाली फिर समृद्ध हुई।

शीत ऋतु अब बंसत हुई

शीतल समीर मंद हुई
नर्म वायु की तासीर से फलों से मरकंद बहे स्वर्णिम पर्वत शिखर हुए
दिनकर की मीठी तपिश से
मन की प्रसन्नता स्वच्छंद हुई।

बागों में सुगन्धित पुष्प गंध बही
देव आगमन हो रहा है
वसुन्धरा भी समृद्ध हुई।

चित्रकला प्रकृति की रंगों में
चरितार्थ हुई गेंदा,गुलाब, गुङहल सूरजमुखी
आदि अद्वितीय पुष्पों से वसुन्धरा का श्रृंगार हुआ।

सर्वप्रथम जगतजननी के आगमन का आह्वान हुआ
नयनों में शोभा भरकर ह्रदय भक्ति रस पान करो।

प्रकृति दे रही भव्य संदेशा..मन में रखो शुभ भावना सर्वहित रखो कामना ..नौ द्वारों से नौ रुपों में।

नवदुर्गा वरदान है दे रही झोली भर लो
उम्मीदों की किरण यही है श्रद्धा समर्पण संकल्प सिद्ध कर लो..।

सत्य धर्म ही सर्वोपरि त्याग,दया ,
क्षमा भाव ही मंगल जीवन के अधिकारी
उठो जागो शुभ मंगल द्वार पर तेरे दस्तक दे रहा।

होने को है नया सवेरा …
शुभ मंगल सवेरा ..

28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ritu Asooja
View all
You may also like:
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
2569.पूर्णिका
2569.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"फूल"
Dr. Kishan tandon kranti
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
सफलता के बीज बोने का सर्वोत्तम समय
Paras Nath Jha
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
बाबा महादेव को पूरे अन्तःकरण से समर्पित ---
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
सूर्य तम दलकर रहेगा...
सूर्य तम दलकर रहेगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम सम्भल कर चलते रहे
हम सम्भल कर चलते रहे
VINOD CHAUHAN
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
अपने होने
अपने होने
Dr fauzia Naseem shad
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जनता नहीं बेचारी है --
जनता नहीं बेचारी है --
Seema Garg
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
जगन्नाथ रथ यात्रा
जगन्नाथ रथ यात्रा
Pooja Singh
आंखों की गहराई को समझ नहीं सकते,
आंखों की गहराई को समझ नहीं सकते,
Slok maurya "umang"
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...