Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

शुभकामना संदेश

शुभकामना संदेश

निकली है दिल से दुआ,दूर तलक जाएगी…..
आपके जीवन में आने वाली हर बाधा, स्वयं ही कट जाएगी।
नव रंग, नव उमंग से आपकी हर राह खुल जाएगी।
आपके संघर्ष की तपिश, कईयों के जीवनमार्ग को प्रशस्त कर जाएगी।
यकीन है मुझे कि मेरी सब गुस्ताखियां माफ़ कर दी जाएगी।
जब मेरी लिखी कविता आपको पढ़कर सुनाई जाएगी।
माना कि आपकी कमी किसी भी वस्तु से नहीं भरी जाएगी।
आपके जीवन में नव आशा हो, नव विश्वास हो, मिलने वाला हर शख्स भी ख़ास हो।
आप जहां भी रहे, अपनेपन का अहसास हो।
सड़क नई हो या पुरानी
आपके पूरे परिवार पर बनी रहे ईश्वर की मेहरबानी।
उच्च प्रयास हो, आपके जीवन में आने वाले
मौके भी ख़ास हो।
इसी आशा और विश्वास से बनी रहें ।
रिश्ते में विश्वास और मिठास ।
यहीं हैं परम पिता से मेरी अरदास।
आभार सहित
रजनी कपूर

Language: Hindi
2 Likes · 116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajni kapoor
View all
You may also like:
दोहा मुक्तक -*
दोहा मुक्तक -*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
Taj Mohammad
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
सागर तो बस प्यास में, पी गया सब तूफान।
Suryakant Dwivedi
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
उड़ रहा खग पंख फैलाए गगन में।
surenderpal vaidya
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
gurudeenverma198
देखिए
देखिए "औरत चाहना" और "औरत को चाहना"
शेखर सिंह
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
Shekhar Chandra Mitra
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धर्मराज
धर्मराज
Vijay Nagar
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
स्त्री जब
स्त्री जब
Rachana Siya
सृष्टि रचेता
सृष्टि रचेता
RAKESH RAKESH
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Sakshi Tripathi
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*चॉंद की सैर (हास्य व्यंग्य)*
*चॉंद की सैर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
चाह और आह!
चाह और आह!
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
...
...
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गांव के छोरे
गांव के छोरे
जय लगन कुमार हैप्पी
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
Loading...