Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

शुक्रिया जिंदगी!

ऐ जिंदगी!
तू कभी खट्टी है तो कभी मीठी,
कभी आसां तो कभी मुश्किल,
तू जो इतनी नाराज रहती है मुझसे,
बता तो सही मेरी खता क्या है.
तू जो मेरे इतने इम्तिहान लेती है
जीने की शर्त पर हर बार दर्द देती है
ये मेरे सफर की मुश्किलों को कम करने की इब्तिदा है
या फिर आस टूटने की इंतिहा
पर, फिर भी
शुक्रिया ऐ जिंदगी !
गर नाराज़ न होती तू ,तो
रिश्तों की उधड़ी हुई सीवन कैसे नज़र आती
आस्तीनों में पनाह लेने वालों की खाल कैसे पहचानी जाती,
सच कहूं, तू है तो हर मौसम खुशरंग है
पलकों की डोली पर सजते ख्वाब हैं
तेरा शुक्रिया.

Tag: Poem
156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
*क्यों बुद्ध मैं कहलाऊं?*
Lokesh Singh
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
क्या खोया क्या पाया
क्या खोया क्या पाया
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
राम का चिंतन
राम का चिंतन
Shashi Mahajan
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का  खेल।
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का खेल।
Manoj Mahato
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
बातों की कोई उम्र नहीं होती
बातों की कोई उम्र नहीं होती
Meera Thakur
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
अनपढ़ प्रेम
अनपढ़ प्रेम
Pratibha Pandey
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
Dr Archana Gupta
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
DrLakshman Jha Parimal
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*ईख (बाल कविता)*
*ईख (बाल कविता)*
Ravi Prakash
3248.*पूर्णिका*
3248.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
Mukta Rashmi
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
तुम्हीं मेरा रस्ता
तुम्हीं मेरा रस्ता
Monika Arora
*मुहब्बत के मोती*
*मुहब्बत के मोती*
आर.एस. 'प्रीतम'
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
अंजान बनकर चल दिए
अंजान बनकर चल दिए
VINOD CHAUHAN
Loading...