Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2023 · 1 min read

शिशिर का स्पर्श / (ठंड का नवगीत)

आग जूड़ी
लग रही है
हो रहा
पारा हताहत ।

हाथ सेंको,
पाँव जूड़े,
पाँव सेंको
कमर जूड़ी ।
और जो
बाकी बची
वो कोर जूड़ी,
कसर जूड़ी ।

धुंध है
पाखंड की
विश्वास का
तारा हताहत ।

शिशिर का
आतंक गहरा,
सूर्य को ढक
रहा कुहरा ।
कपकपी ऐसी
कि जिससे
सिकुड़ हर तन
हुआ दुहरा ।

प्रकृति का
बाह्य,अंतर
आवरण
सारा हताहत ।

शीत लहरों
ने बिगाड़ा
आदमी का
खेल सारा ।
पनपने के
पूर्व फसलें
लीलता है
घटा-पारा ।

ठिठुरती
जीवन-नदी
की हो रही
धारा हताहत ।

आग जूड़ी
लग रही है
हो रहा
पारा हताहत ।
०००
—- ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।
मो.- 8463884927

Language: Hindi
Tag: गीत
8 Likes · 10 Comments · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
... सच्चे मीत
... सच्चे मीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हवा के साथ उड़ने वाले
हवा के साथ उड़ने वाले
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी की उड़ान
जिंदगी की उड़ान
Kanchan verma
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
[पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय- 5
Pravesh Shinde
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
*सत्संग शिरोमणि रवींद्र भूषण गर्ग*
*सत्संग शिरोमणि रवींद्र भूषण गर्ग*
Ravi Prakash
यशस्वी भव
यशस्वी भव
मनोज कर्ण
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
2628.पूर्णिका
2628.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
💐अज्ञात के प्रति-104💐
💐अज्ञात के प्रति-104💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
कवि रमेशराज
मेरी आरज़ू है ये
मेरी आरज़ू है ये
shabina. Naaz
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
* नहीं पिघलते *
* नहीं पिघलते *
surenderpal vaidya
ख़ुदी के लिए
ख़ुदी के लिए
Dr fauzia Naseem shad
*पहचान* – अहोभाग्य
*पहचान* – अहोभाग्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
Dr Manju Saini
दर्द
दर्द
SHAMA PARVEEN
Loading...