Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 3 min read

शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल , कनेर पुष्प व तुलसी पत्र क्यों नहीं चढ़ाए जाते है ?

शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प
कमल , कनेर पुष्प व तुलसी पत्र क्यों नहीं चढ़ाए जाते है ?
समाधान उत्तर –चौपई (जयकरी छंद 21 गाल )के
पुनीत रुप गागाल 221 में

जयकरी छंद में पदांत – गाल (पुनीत रुप में– गागाल )
~~~~~~~~~~~~~ सामान्य मान्यता

रखती सुंदर चम्पा फूल | खुश्बू रखकर करती भूल ||
भँवरा कहता उसको बाँझ | चम्पा रोती ढलती साँझ ||
मिले पराग न उसके भाग | करता भँवरा उसका त्याग ||
लगती चम्पा उसको हीन | खुश्बू रंगत लगते दीन ||
~~~~~~~~~~~
धार्मिक मान्यता (नारद जी से श्रापित चम्पा राधा जी के काम आई )

शिव को चम्पा से आनंद | चम्पा खेली छल का छंद ||
बोली थी नारद से झूठ | नारद जी तब जाते रूठ ||
देते नारद जी है श्राप | उतरे तेरे मद का ताप ||
मत पराग का होगा वास | शिव आँगन से तेरा ह्रास ||

बुरी नियत का ले संज्ञान | आया था कोई नादान ||
तब देकर चम्पा ने फूल | जीवन में की भारी भूल ||
नारद पूछें तब इंकार | करे नहीं गलती स्वीकार ||
तब पराग का सूखा नूर | तब से चम्पा शिव से दूर ||

चम्पा रोती हरि के पास | मैं कहलाऊँ किसकी खास ||
कहते हरि यदि तू तैयार | राधा कर सकती उद्धार ||
राधा के तू आना काम | जिससे मुझको है आराम |
राधा पावन इस संसार | मिले उसे बस मेरा प्यार ||

चम्पा जाती राधा पास | कहती कर‌‌लो मुझमें वास ||
अब तो हरि चरणों की धूल | सदा सुधारें ‌मेरी भूल ||
राधा चम्पा बनके फूल | व्यंग्य बाण के सहती शूल ||
अपना रखती छुपा पराग | सिर्फ कृष्ण को देती भाग ||

भ्रमर रहे इस नाते दूर | हरि ही छूते उसका नूर ||
हरि का भँवरा होता दास | इस कारण मत जाए पास ||
राधा रहती चम्पा फूल | यादें हरि को यमुना कूल ||
चम्पा उनको है स्वीकार | देते उसको अपना प्यार ||
~~~~~~~~~~~~~
केतकी प्रसंग

श्रीहरि -ब्रम्हा है तैयार | पता लगाने शिव आकार ||
ब्रम्हा जाते है पाताल | भरें विष्णु जी नभ में चाल ||
श्रीहरि लौटे खाली हाथ | नहीं मिली ऊँचाई नाथ ||
ब्रम्हा लौटे भरते ओज | गहराई ली हमने खोज ||

कहें केतकी सच है बात | यहाँ गवाही दूँ सौगात ||
कहते शिव है, करती पाप | सुनो केतकी मेरा श्राप ||
तुझे डसेगें मेरे नाग | आज छोड़ता तुझसे राग ||
जग में तब से सहती शूल | नहीं केतकी चढ़ते फूल ||

ब्रम्हा का भी गिरता शीष | झूँठ वचन जो बोला दीश |
बचे चार सिर बोलें नाथ | नहीं हमारा समझों साथ ||
ब्रम्हा का तब झुकता माथ | क्षमा माँगते जोड़े हाथ ||
महादेव ही जग आधार | जिनकी महिमा अपरम्पार ||

तब से ब्रम्हा मुख है चार | गिरा पाँचवाँ है बेकार ||
नहीं बोलना जग में झूठ | वर्ना जाते शिव जी रूठ ||
कहे केतकी मुझसे भूल | झूँठ उगा तन ,बनके शूल ||
क्षमा करो हे , दीनानाथ | ‌सर्प डसें मत मेरा माथ ||

शिव कहते है लेना पाल | सर्प रखेगें तेरा ख्याल ||
नहीं झूँठ का देना साथ | देने पर डस लेगें माथ ||
कहे केतकी जोड़े हाथ | किस चरणों में जाऊँ नाथ ||
श्रीहरि ही तब आए काम | मिला केतकी को आराम ||
~~~~~~~~~~~~~~
तुलसी प्रसंग

कहें प्रिया हरि तुलसी आन | श्रीहरि जैसा दें सम्मान ||
करें नहीं हरिहर स्वीकार | बेल पत्र को बस दें प्यार ||
~~~~~~~~~~~~~~
कमल , कनेर पुप्ष प्रसंग

शिव कनेर को देते मान | कहें लक्ष्मी की ये आन ||
शिवजी देते है‌ संदेश | सबका अपना रहता वेश ||
लाल पुष्प में लक्ष्मी मान | शिव खुद करते इनका गान ||
नहीं चढ़ाना शिव को आप | स्वीकारे मत इनकी जाप ||
(जाप =माला)
~~~~~~~~~~
श्री शिव जी का संदेश

किसने समझा शिव संदेश | क्या चाहें शिव कैसा वेश ||
जो भजते है शिव का नाम | उन तक मेरा है पैगाम ||
सदा बुराई देना तोड़ | शिव के सम्मुख आना छोड़ ||
गरल आपका कर लें पान | जग को अमरत देते दान ||

गरल कंठ में रखें सम्हाल | नहीं उतारे तन में काल ||
इस लीला से दें संदेश | नहीं बुराई आवें लेश ||
~~~~~~~~~~~~~~
सुभाष सिंघई

Language: Hindi
1 Like · 69 Views
You may also like:
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सर्द चांदनी रात
Shriyansh Gupta
भूख
मनोज कर्ण
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
हर रास्ता मंजिल की ओर नहीं जाता।
Annu Gurjar
मेंहदी दा बूटा
Kaur Surinder
दिसम्बर की रातों ने बदल दिया कैलेंडर /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
बेटा बेटी है एक समान
Ram Krishan Rastogi
✍️फासले थे✍️
'अशांत' शेखर
प्रतिस्पर्धा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नन्हा और अतीत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्रेम -जगत/PREM JAGAT
Shivraj Anand
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें ( स्मृति गीत)
Ravi Prakash
#मजबूरिया
Dalveer Singh
छंद:-अनंगशेखर(वर्णिक)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🌺🌤️जिन्दगी उगता हुआ सूरज है🌤️🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
बाल कहानी- टीना और तोता
SHAMA PARVEEN
काश!
Rashmi Sanjay
■ ख़ुद की निगरानी
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
मोह....
Rakesh Bahanwal
विचार
मनोज शर्मा
**--नए वर्ष की नयी उमंग --**
Shilpi Singh
गुरु ईश्वर के रूप धरा पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमको पास बुलाती है।
Taj Mohammad
हँसते हैं वो तुम्हें देखकर!
Shiva Awasthi
"पति परमेश्वर "
Dr Meenu Poonia
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
सकठ गणेश चतुर्थी
Satish Srijan
Loading...