Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 3 min read

शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प कमल , कनेर पुष्प व तुलसी पत्र क्यों नहीं चढ़ाए जाते है ?

शिव जी को चम्पा पुष्प , केतकी पुष्प
कमल , कनेर पुष्प व तुलसी पत्र क्यों नहीं चढ़ाए जाते है ?
समाधान उत्तर –चौपई (जयकरी छंद 21 गाल )के
पुनीत रुप गागाल 221 में

जयकरी छंद में पदांत – गाल (पुनीत रुप में– गागाल )
~~~~~~~~~~~~~ सामान्य मान्यता

रखती सुंदर चम्पा फूल | खुश्बू रखकर करती भूल ||
भँवरा कहता उसको बाँझ | चम्पा रोती ढलती साँझ ||
मिले पराग न उसके भाग | करता भँवरा उसका त्याग ||
लगती चम्पा उसको हीन | खुश्बू रंगत लगते दीन ||
~~~~~~~~~~~
धार्मिक मान्यता (नारद जी से श्रापित चम्पा राधा जी के काम आई )

शिव को चम्पा से आनंद | चम्पा खेली छल का छंद ||
बोली थी नारद से झूठ | नारद जी तब जाते रूठ ||
देते नारद जी है श्राप | उतरे तेरे मद का ताप ||
मत पराग का होगा वास | शिव आँगन से तेरा ह्रास ||

बुरी नियत का ले संज्ञान | आया था कोई नादान ||
तब देकर चम्पा ने फूल | जीवन में की भारी भूल ||
नारद पूछें तब इंकार | करे नहीं गलती स्वीकार ||
तब पराग का सूखा नूर | तब से चम्पा शिव से दूर ||

चम्पा रोती हरि के पास | मैं कहलाऊँ किसकी खास ||
कहते हरि यदि तू तैयार | राधा कर सकती उद्धार ||
राधा के तू आना काम | जिससे मुझको है आराम |
राधा पावन इस संसार | मिले उसे बस मेरा प्यार ||

चम्पा जाती राधा पास | कहती कर‌‌लो मुझमें वास ||
अब तो हरि चरणों की धूल | सदा सुधारें ‌मेरी भूल ||
राधा चम्पा बनके फूल | व्यंग्य बाण के सहती शूल ||
अपना रखती छुपा पराग | सिर्फ कृष्ण को देती भाग ||

भ्रमर रहे इस नाते दूर | हरि ही छूते उसका नूर ||
हरि का भँवरा होता दास | इस कारण मत जाए पास ||
राधा रहती चम्पा फूल | यादें हरि को यमुना कूल ||
चम्पा उनको है स्वीकार | देते उसको अपना प्यार ||
~~~~~~~~~~~~~
केतकी प्रसंग

श्रीहरि -ब्रम्हा है तैयार | पता लगाने शिव आकार ||
ब्रम्हा जाते है पाताल | भरें विष्णु जी नभ में चाल ||
श्रीहरि लौटे खाली हाथ | नहीं मिली ऊँचाई नाथ ||
ब्रम्हा लौटे भरते ओज | गहराई ली हमने खोज ||

कहें केतकी सच है बात | यहाँ गवाही दूँ सौगात ||
कहते शिव है, करती पाप | सुनो केतकी मेरा श्राप ||
तुझे डसेगें मेरे नाग | आज छोड़ता तुझसे राग ||
जग में तब से सहती शूल | नहीं केतकी चढ़ते फूल ||

ब्रम्हा का भी गिरता शीष | झूँठ वचन जो बोला दीश |
बचे चार सिर बोलें नाथ | नहीं हमारा समझों साथ ||
ब्रम्हा का तब झुकता माथ | क्षमा माँगते जोड़े हाथ ||
महादेव ही जग आधार | जिनकी महिमा अपरम्पार ||

तब से ब्रम्हा मुख है चार | गिरा पाँचवाँ है बेकार ||
नहीं बोलना जग में झूठ | वर्ना जाते शिव जी रूठ ||
कहे केतकी मुझसे भूल | झूँठ उगा तन ,बनके शूल ||
क्षमा करो हे , दीनानाथ | ‌सर्प डसें मत मेरा माथ ||

शिव कहते है लेना पाल | सर्प रखेगें तेरा ख्याल ||
नहीं झूँठ का देना साथ | देने पर डस लेगें माथ ||
कहे केतकी जोड़े हाथ | किस चरणों में जाऊँ नाथ ||
श्रीहरि ही तब आए काम | मिला केतकी को आराम ||
~~~~~~~~~~~~~~
तुलसी प्रसंग

कहें प्रिया हरि तुलसी आन | श्रीहरि जैसा दें सम्मान ||
करें नहीं हरिहर स्वीकार | बेल पत्र को बस दें प्यार ||
~~~~~~~~~~~~~~
कमल , कनेर पुप्ष प्रसंग

शिव कनेर को देते मान | कहें लक्ष्मी की ये आन ||
शिवजी देते है‌ संदेश | सबका अपना रहता वेश ||
लाल पुष्प में लक्ष्मी मान | शिव खुद करते इनका गान ||
नहीं चढ़ाना शिव को आप | स्वीकारे मत इनकी जाप ||
(जाप =माला)
~~~~~~~~~~
श्री शिव जी का संदेश

किसने समझा शिव संदेश | क्या चाहें शिव कैसा वेश ||
जो भजते है शिव का नाम | उन तक मेरा है पैगाम ||
सदा बुराई देना तोड़ | शिव के सम्मुख आना छोड़ ||
गरल आपका कर लें पान | जग को अमरत देते दान ||

गरल कंठ में रखें सम्हाल | नहीं उतारे तन में काल ||
इस लीला से दें संदेश | नहीं बुराई आवें लेश ||
~~~~~~~~~~~~~~
सुभाष सिंघई

Language: Hindi
1 Like · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
2989.*पूर्णिका*
2989.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यह कब जान पाता है एक फूल,
यह कब जान पाता है एक फूल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पूर्वार्थ
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
sushil sarna
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
6-जो सच का पैरोकार नहीं
6-जो सच का पैरोकार नहीं
Ajay Kumar Vimal
बारह ज्योतिर्लिंग
बारह ज्योतिर्लिंग
सत्य कुमार प्रेमी
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
■ विनम्र आग्रह...
■ विनम्र आग्रह...
*Author प्रणय प्रभात*
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
💐Prodigy Love-12💐
💐Prodigy Love-12💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️गहरी बात✍️
✍️गहरी बात✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
Rituraj shivem verma
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अविकसित अपनी सोच को
अविकसित अपनी सोच को
Dr fauzia Naseem shad
समस्या है यह आएगी_
समस्या है यह आएगी_
Rajesh vyas
वादा  प्रेम   का  करके ,  निभाते  रहे   हम।
वादा प्रेम का करके , निभाते रहे हम।
Anil chobisa
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
फेसबुक पर सक्रिय रहितो अनजान हम बनल रहैत छी ! आहाँ बधाई शुभक
DrLakshman Jha Parimal
Loading...