Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

*शिवोहम्* “” ( *ॐ नमः शिवायः* )

“” शिवोहम् “”
( ॐ नमः शिवायः )
********************

( 1 )” शि “, शिवोहम् शिवोहम् हूँ मैं शिवोहम्
मुझमें बसता शिव स्वरूपम् !
अभिभूत हूँ मैं चेतनता से…..,
शिवमय बना है सारा जीवन !!

( 2 )” वो “, वो सदाशिव, है मृत्युंजय
बसता हमारी रग-रग में है !
है विश्वेश्वर, वही गिरिश्वर….,
जीवन की हर श्वासों में वो है !!

( 3 )” “, हर हर महादेव,भगनेत्रभिद् हैं
हैं वही दक्षाध्वरहर हर !
पाशविमोचन परमेश्वर हैं….,
बसते जड़ चेतन, हर नर-नर !!

( 4 )” “, महाकाल ललाटाक्ष गंगाधर हैं
हैं शिव भोले कृपानिधि !
विष्णुप्रिय भक्तवत्सल शिव हैं….,
त्रिलोक स्वामी कैलाशवासी !!

( 5 )” शिवोहम् “, शिवोहम् चिदानंद रूपम्
मनो बुद्धि अहंकार चित्तानि नाहम् !
न मे द्वेषरागौ न मे लोभ मोहौ….,
मदों नैव मे नैव मात्सर्यभावम् !!

¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥¥

सुनीलानंद
शनिवार,
18 मई, 2024
जयपुर,
राजस्थान |

Language: Hindi
33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
परिवर्तन ही वर्तमान चिरंतन
परिवर्तन ही वर्तमान चिरंतन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
हम घर रूपी किताब की वह जिल्द है,
Umender kumar
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
आप लोग अभी से जानवरों की सही पहचान के लिए
शेखर सिंह
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
प्यार क्या होता, यह हमें भी बहुत अच्छे से पता है..!
SPK Sachin Lodhi
जाग री सखि
जाग री सखि
Arti Bhadauria
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
चाँद कुछ इस तरह से पास आया…
Anand Kumar
■ यक़ीन मानिए...
■ यक़ीन मानिए...
*प्रणय प्रभात*
हाथ कंगन को आरसी क्या
हाथ कंगन को आरसी क्या
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
*दही सदा से है सही, रखता ठीक दिमाग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
आसमाँ पर तारे लीप रहा है वो,
आसमाँ पर तारे लीप रहा है वो,
अर्चना मुकेश मेहता
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr .Shweta sood 'Madhu'
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
पूर्वार्थ
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
झरना का संघर्ष
झरना का संघर्ष
Buddha Prakash
Loading...