Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

शिखर छुऊंगा एक दिन

बड़ी राह का अंजान मुसाफिर
चल पड़ा सच्चाई के कर्म पथ पे
लाखों मुश्किलें आएगी प्रचर में
फिर भी हम शिखर को छुऊंगा मैं।

बड़ी दौड़ का छोटा पथिक
शिखर ऊंचा और मैं छोटा
संघर्ष कर कर के बढूंगा आगे !
एक दिन शिखर को छुऊंगा मैं।

गुमनाम राह के सुनसान परिंदा
चल पड़ा शिखर की तलाश में
भटक भी गया तो मेहनत के बल
फिर भी हम शिखर को छुऊंगा मैं।

चल पड़ा तो वापस क्या मुड़ना !
लौटने के तो बहाने मिलेंगे हजार
कितने भी चाहे आ जाए उद्विग्नता
फिर भी अपने शिखर को छुऊंगा मैं।

Language: Hindi
1 Like · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करने लगा मैं ऐसी बचत
करने लगा मैं ऐसी बचत
gurudeenverma198
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तमगा
तमगा
Bodhisatva kastooriya
"सफाई की चाहत"
*Author प्रणय प्रभात*
सोलह श्रृंगार
सोलह श्रृंगार
Shekhar Chandra Mitra
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
माँ
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
आईना सच अगर दिखाता है
आईना सच अगर दिखाता है
Dr fauzia Naseem shad
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
कौन नहीं है...?
कौन नहीं है...?
Srishty Bansal
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
दुर्योधन कब मिट पाया :भाग:40
AJAY AMITABH SUMAN
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
मुख अटल मधुरता, श्रेष्ठ सृजनता, मुदित मधुर मुस्कान।
रेखा कापसे
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
वतन की राह में, मिटने की हसरत पाले बैठा हूँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनजान लड़का
अनजान लड़का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-172💐
💐प्रेम कौतुक-172💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संघर्षों के राहों में हम
संघर्षों के राहों में हम
कवि दीपक बवेजा
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
*** चल अकेला.......!!! ***
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तेरा पिता हूँ
तेरा पिता हूँ
Satish Srijan
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
Loading...