Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#27 Trending Author
May 23, 2022 · 1 min read

शिखर छुऊंगा एक दिन

बड़ी राह का अंजान मुसाफिर
चल पड़ा सच्चाई के कर्म पथ पे
लाखों मुश्किलें आएगी प्रचर में
फिर भी हम शिखर को छुऊंगा मैं।

बड़ी दौड़ का छोटा पथिक
शिखर ऊंचा और मैं छोटा
संघर्ष कर कर के बढूंगा आगे !
एक दिन शिखर को छुऊंगा मैं।

गुमनाम राह के सुनसान परिंदा
चल पड़ा शिखर की तलाश में
भटक भी गया तो मेहनत के बल
फिर भी हम शिखर को छुऊंगा मैं।

चल पड़ा तो वापस क्या मुड़ना !
लौटने के तो बहाने मिलेंगे हजार
कितने भी चाहे आ जाए उद्विग्नता
फिर भी अपने शिखर को छुऊंगा मैं।

38 Views
You may also like:
पंचशील गीत
Buddha Prakash
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
Feel it and see that
Taj Mohammad
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
पापा की परी...
Sapna K S
वसंत का संदेश
Anamika Singh
सौगंध
Shriyansh Gupta
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
Loading...