Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

शिक्षित लोग

शिक्षित लोग ।

शिक्षित लोग बहुत चतुर होते हैं , वे यह नहीं चाहते हैं कि हमारे लोग आगे बढ़े , शिक्षत हो इसलिए विज्ञान , गणित को कोई महत्व ही नहीं दिऐ , वे भलिभांति जानते थे कि ये ज्ञान मिल जाये तो लोग पांखड़, धर्म , अंधविश्वास , छुआछूत जाति-पाति मिट जाऐगा और हमारा वर्चस्व ही मिट जाएगा । हमारे देश में अविष्कार समय के साथ हो रहा हैं । हमें भी विकसित देश बनना हैं ।

Language: Hindi
Tag: लेख
35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
Indu Singh
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
Ravi Prakash
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
सवैया छंदों के नाम व मापनी (सउदाहरण )
Subhash Singhai
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
रुदंन करता पेड़
रुदंन करता पेड़
Dr. Mulla Adam Ali
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
Sonam Puneet Dubey
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
"सफलता का राज"
Dr. Kishan tandon kranti
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
नव अंकुर स्फुटित हुआ है
Shweta Soni
3506.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3506.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
धोखा देना या मिलना एक कर्ज है
धोखा देना या मिलना एक कर्ज है
शेखर सिंह
एक ही भूल
एक ही भूल
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...