Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का

शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
मनुष्य जीवन और रिश्तों की अधुरूपता का
पर आज के वक्त में महिला हों पुरुष शिक्षा अहम,पैसा घमंड बन गया है उनके व्यक्तित्व का।
जिस पुरुष या महिला ने जीवन या रिश्ते में अपने इस अहम और घमंड को जोड़ा है । इस जीवन और रिश्ते का सुचारू प्रारूप नाश हुआ है।
आज के युग में शिक्षा और पैसा काबिलियत दे रहा है
पर लायकी के संस्कार और गुण से निरुक्त और रिक्त कर रहा है।
पैसा और शिक्षा के साथ साथ जीवन और रिश्ते में लगने वाले संस्कार, गुणतत्व, व्यवहारिकता, भाषा, समायोजन बिल्कुल नही है। शून्य है विवेक और समसस्ता में पर बुद्धि और अहम में पूर्ण है।

33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विवाह
विवाह
Shashi Mahajan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
नारी
नारी
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
क्रिकेट
क्रिकेट
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
*श्री देवेंद्र कुमार रस्तोगी के न रहने से आर्य समाज का एक स्
Ravi Prakash
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
बदनसीब लाइका ( अंतरिक्ष पर भेजी जाने वाला पशु )
ओनिका सेतिया 'अनु '
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
Prastya...💐
Prastya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
"इंसान की फितरत"
Yogendra Chaturwedi
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
हम गैरो से एकतरफा रिश्ता निभाते रहे #गजल
Ravi singh bharati
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
तुम्हारे दीदार की तमन्ना
Anis Shah
ध्वनि प्रदूषण कर दो अब कम
ध्वनि प्रदूषण कर दो अब कम
Buddha Prakash
तुम याद आये !
तुम याद आये !
Ramswaroop Dinkar
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
इंसानियत का वजूद
इंसानियत का वजूद
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
खुश मिजाज़ रहना सीख लो,
खुश मिजाज़ रहना सीख लो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
बेटियां बोझ नहीं होती
बेटियां बोझ नहीं होती
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
उसका-मेरा साथ सुहाना....
उसका-मेरा साथ सुहाना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
🙅राहत की बात🙅
🙅राहत की बात🙅
*प्रणय प्रभात*
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
Loading...