Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

“शिक्षक”

“शिक्षक”

शिक्षक की महता है अपरंपार

पौधों को सींचकर फलदायी वृक्ष बनाएं,

मुरीद हैं इनके गुणी महापुरूष भी

बांटकर ज्ञान सारे जग को पढ़ाएं,

बच्चों के उज्ज्वल भविष्य खातिर

दीपक ज्यू जलकर प्रकाश फैलाएं

पढ़ लिखकर इनसे विद्वान बने शिष्य

चहूं और वातावरण को ज्ञान से महकाएं,

ब्रह्मा, विष्णू, महेश से भी बढ़कर

शिक्षक को वेद और पुराण बताएं

प्राचीन काल से ही पार उतारें सबको

महिमा उनकी आज मीनू भी कह जाए।

Language: Hindi
1 Like · 223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*****रामलला*****
*****रामलला*****
Kavita Chouhan
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
हुई स्वतंत्र सोने की चिड़िया चहकी डाली -डाली।
Neelam Sharma
26. ज़ाया
26. ज़ाया
Rajeev Dutta
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
फूल खिले हैं डाली-डाली,
फूल खिले हैं डाली-डाली,
Vedha Singh
राजनीति अब धुत्त पड़ी है (नवगीत)
राजनीति अब धुत्त पड़ी है (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
" दम घुटते तरुवर "
Dr Meenu Poonia
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
2710.*पूर्णिका*
2710.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
🙅इस साल🙅
🙅इस साल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
विनाश नहीं करती जिन्दगी की सकारात्मकता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*
*पाते असली शांति वह ,जिनके मन संतोष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
हमने उनकी मुस्कुराहटों की खातिर
Harminder Kaur
वो
वो
Ajay Mishra
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
सामाजिक मुद्दों पर आपकी पीड़ा में वृद्धि हुई है, सोशल मीडिया
Sanjay ' शून्य'
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
नवगीत : अरे, ये किसने गाया गान
Sushila joshi
Loading...