Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

शारदे माँ

शारदे माँ सज रही तुम, आज वीणा बजाती
संगीत में रमी तुम, हर तान है लुभाती

तू ज्ञान का समुद्र,दो बूँद चाहती मैं
झोली भरो कृपा कर, तेरी सुता कहाती

तू भाग्य को बनाती मैंने सुना है माता
जब भी सृजन करूं तो, कर जोड़ मैं बुलाती

आई शरण तुम्हारी, हे हंस वाहिनी माँ
दान विद्या दीजिये,तुमको पुष्प चढाती

मेरी कलम चली तो, हो प्राण वाहिनी तुम
तुमसे कला मिली ,दिये बुझे तुम जलाती

1 Comment · 390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sharda Madra
View all
You may also like:
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
गांव
गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*दायरे*
*दायरे*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
Rambali Mishra
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
💐अज्ञात के प्रति-71💐
💐अज्ञात के प्रति-71💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
तुम तो मुठ्ठी भर हो, तुम्हारा क्या, हम 140 करोड़ भारतीयों का भाग्य उलझ जाएगा
Anand Kumar
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
तीर तुक्के
तीर तुक्के
Suryakant Dwivedi
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
इन्तजार है हमको एक हमसफर का।
Taj Mohammad
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
स्थायित्व (Stability)
स्थायित्व (Stability)
Shyam Pandey
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
There is no shortcut through the forest of life if there is
There is no shortcut through the forest of life if there is
सतीश पाण्डेय
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
जीने दो मुझे अपने वसूलों पर
goutam shaw
नुकसान फायदे
नुकसान फायदे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उस वक़्त मैं
उस वक़्त मैं
gurudeenverma198
2795. *पूर्णिका*
2795. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#लघुव्यंग्य-
#लघुव्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
आदमी की बात
आदमी की बात
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...