Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 16, 2016 · 1 min read

शारदे माँ

शारदे माँ सज रही तुम, आज वीणा बजाती
संगीत में रमी तुम, हर तान है लुभाती

तू ज्ञान का समुद्र,दो बूँद चाहती मैं
झोली भरो कृपा कर, तेरी सुता कहाती

तू भाग्य को बनाती मैंने सुना है माता
जब भी सृजन करूं तो, कर जोड़ मैं बुलाती

आई शरण तुम्हारी, हे हंस वाहिनी माँ
दान विद्या दीजिये,तुमको पुष्प चढाती

मेरी कलम चली तो, हो प्राण वाहिनी तुम
तुमसे कला मिली ,दिये बुझे तुम जलाती

1 Comment · 185 Views
You may also like:
आओ तुम
sangeeta beniwal
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
✍️तंगदिली✍️
"अशांत" शेखर
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
काश मेरा बचपन फिर आता
Jyoti Khari
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
✍️अलहदा✍️
"अशांत" शेखर
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
छलकाओं न नैना
Dr. Alpa H. Amin
बंदर भैया
Buddha Prakash
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
इश्क ए बंदगी में।
Taj Mohammad
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...