Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

शारदे माँ

शारदे माँ सज रही तुम, आज वीणा बजाती
संगीत में रमी तुम, हर तान है लुभाती

तू ज्ञान का समुद्र,दो बूँद चाहती मैं
झोली भरो कृपा कर, तेरी सुता कहाती

तू भाग्य को बनाती मैंने सुना है माता
जब भी सृजन करूं तो, कर जोड़ मैं बुलाती

आई शरण तुम्हारी, हे हंस वाहिनी माँ
दान विद्या दीजिये,तुमको पुष्प चढाती

मेरी कलम चली तो, हो प्राण वाहिनी तुम
तुमसे कला मिली ,दिये बुझे तुम जलाती

1 Comment · 240 Views
You may also like:
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
बापू को क्यों मारा..
पंकज कुमार कर्ण
"शिवाजी गुरु समर्थ रामदास स्वामी"✨
Pravesh Shinde
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां की महिमा
Shivraj Anand
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
शिक्षा में जातिवाद
Shekhar Chandra Mitra
बेचने वाले
shabina. Naaz
मौसम
Surya Barman
किस अदा की बात करें
Mahesh Tiwari 'Ayen'
पिताजी ने मुझसे कहा "तुम मुन्नी लाल धर्मशाला के ट्रस्टी...
Ravi Prakash
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
वक्त सबको देता है मौका
Anamika Singh
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मकान जला है।
Taj Mohammad
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
चंद सांसे अभी बाकी है
Sushil chauhan
نظریں بتا رہی ہیں تمھیں مجھ سے پیار ہے۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अपने घर से हार गया
सूर्यकांत द्विवेदी
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
विश्व जनसंख्या दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
विचार
मनोज शर्मा
नया पड़ाव।
Kanchan sarda Malu
Little baby !
Buddha Prakash
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
✍️सिर्फ…✍️
'अशांत' शेखर
Loading...