Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2016 · 1 min read

शारदा वंदन

गीतिका
हे शारदे कपाल झुकाते सदैव हैं।
हम आपको भवानि रिझाते सदैव हैं।
हो बाँटती प्रसाद विमल प्रेम तत्व का।
हम भाव के प्रसून चढाते सदैव हैं।
सद्ज्ञान के कपाट खुले द्वार आपके।
अज्ञान वश सजीव भुलाते सदैव हैं।
दो चित्त से विकार हटा सौम्यता बढा।
छल दंभ द्वेष आदि सताते सदैव हैं।
हो अर्च्य आप अंब चरण पूजते सदा।
माँ पुत्र धर्म मान निभाते सदैव हैं।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
"ये दुनिया बाजार है"
Dr. Kishan tandon kranti
Agar padhne wala kabil ho ,
Agar padhne wala kabil ho ,
Sakshi Tripathi
अपने
अपने "फ़ास्ट" को
*Author प्रणय प्रभात*
अनजान रिश्ते...
अनजान रिश्ते...
Harminder Kaur
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अफ़सोस का एक बीज़ उगाया हमने,
अफ़सोस का एक बीज़ उगाया हमने,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*इमली (बाल कविता)*
*इमली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है
जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
और क्या कहूँ तुमसे मैं
और क्या कहूँ तुमसे मैं
gurudeenverma198
तुझे भूलना इतना आसां नही है
तुझे भूलना इतना आसां नही है
Bhupendra Rawat
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
Rambali Mishra
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
कई राज मेरे मन में कैद में है
कई राज मेरे मन में कैद में है
कवि दीपक बवेजा
देव दीपावली
देव दीपावली
Vedha Singh
The Little stars!
The Little stars!
Buddha Prakash
स्थायित्व (Stability)
स्थायित्व (Stability)
Shyam Pandey
हल
हल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अपनी क़िस्मत को
अपनी क़िस्मत को
Dr fauzia Naseem shad
मेरी जिंदगी
मेरी जिंदगी
ओनिका सेतिया 'अनु '
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
सवर्ण पितृसत्ता, सवर्ण सत्ता और धर्मसत्ता के विरोध के बिना क
Dr MusafiR BaithA
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
Loading...