Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

शारदा वंदन

*गीतिका*
हे शारदे कपाल झुकाते सदैव हैं।
हम आपको भवानि रिझाते सदैव हैं।
हो बाँटती प्रसाद विमल प्रेम तत्व का।
हम भाव के प्रसून चढाते सदैव हैं।
सद्ज्ञान के कपाट खुले द्वार आपके।
अज्ञान वश सजीव भुलाते सदैव हैं।
दो चित्त से विकार हटा सौम्यता बढा।
छल दंभ द्वेष आदि सताते सदैव हैं।
हो अर्च्य आप अंब चरण पूजते सदा।
माँ पुत्र धर्म मान निभाते सदैव हैं।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

171 Views
You may also like:
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
माहौल
AMRESH KUMAR VERMA
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
आपातकाल
Shriyansh Gupta
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
अरदास
Buddha Prakash
चिड़ियाँ
Anamika Singh
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
Loading...