Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2017 · 1 min read

शायद

शायद किसी दिन
मैं उस भीड़ भरे कमरे के
उस पर देख पाऊंगा
वो जानी पहचानी सी आंखें
और बस

फिर दिल नहीं धड़केगा
और ना ही तब किसी
चमत्कार का इंतज़ार
बस एक मुस्कुराहट होगी
पिछली ज़िन्दगी की याद दिलाती

शायद किसी दिन एक खत मिलेगा
जिसे पढ़कर कुछ यादें ताज़ा होंगी
या शायद भूल जाऊंगा कि
कोई खत भी मिल था मुझे

शायद किसी दिन तुम मुझे
देखोगी, आवाज़ लगाओगी
मुझे वो सब कुछ याद दिलाओगी
वो घर जहां का रास्ता मैं भूल गया था
शायद

–प्रतीक

Language: Hindi
255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
अंतराष्टीय मजदूर दिवस
Ram Krishan Rastogi
नाकाम किस्मत( कविता)
नाकाम किस्मत( कविता)
Monika Yadav (Rachina)
"जुगाड़ तकनीकी"
Dr. Kishan tandon kranti
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
शेखर सिंह
R J Meditation Centre
R J Meditation Centre
Ravikesh Jha
मजदूर की अन्तर्व्यथा
मजदूर की अन्तर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
ये मौसम ,हाँ ये बादल, बारिश, हवाएं, सब कह रहे हैं कितना खूबस
Swara Kumari arya
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
पूर्वार्थ
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
अहाना छंद बुंदेली
अहाना छंद बुंदेली
Subhash Singhai
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
जग जननी है जीवनदायनी
जग जननी है जीवनदायनी
Buddha Prakash
*अक्षय तृतीया*
*अक्षय तृतीया*
Shashi kala vyas
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
उम्मीद
उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
*वर्तमान को स्वप्न कहें , या बीते कल को सपना (गीत)*
*वर्तमान को स्वप्न कहें , या बीते कल को सपना (गीत)*
Ravi Prakash
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
चंदन माँ पन्ना की कल्पनाएँ
Anil chobisa
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
गुनाह लगता है किसी और को देखना
गुनाह लगता है किसी और को देखना
Trishika S Dhara
Loading...