Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

शायद शब्दों में भी

शायद शब्दों में भी
कांटे होते है
तभी तो
चुभ जाते हैं शब्द
डॉ मंजु सैनी
गाज़ियाबाद

295 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
अनुभूति
अनुभूति
Dr. Kishan tandon kranti
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
जीवन एक संघर्ष
जीवन एक संघर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
दिल के दरवाज़े
दिल के दरवाज़े
Bodhisatva kastooriya
एहसास
एहसास
Vandna thakur
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
फ़र्क़ यह नहीं पड़ता
Anand Kumar
अगर प्रेम में दर्द है तो
अगर प्रेम में दर्द है तो
Sonam Puneet Dubey
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
3211.*पूर्णिका*
3211.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप देखो जो मुझे सीने  लगाओ  तभी
आप देखो जो मुझे सीने लगाओ तभी
दीपक झा रुद्रा
समर्पण
समर्पण
Sanjay ' शून्य'
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
बार बार बोला गया झूठ भी बाद में सच का परिधान पहन कर सच नजर आ
Babli Jha
पाँच सितारा, डूबा तारा
पाँच सितारा, डूबा तारा
Manju Singh
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
क्षितिज पार है मंजिल
क्षितिज पार है मंजिल
Atul "Krishn"
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
■ आज़ाद भारत के दूसरे पटेल।
■ आज़ाद भारत के दूसरे पटेल।
*प्रणय प्रभात*
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*सुख-दुख के दोहे*
*सुख-दुख के दोहे*
Ravi Prakash
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
Khata kar tu laakh magar.......
Khata kar tu laakh magar.......
HEBA
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...