Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।

शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
और ज़िन्दगी का पता नहीं कहां जा रही है।।
शिव प्रताप लोधी

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिव प्रताप लोधी
View all
You may also like:
1) आखिर क्यों ?
1) आखिर क्यों ?
पूनम झा 'प्रथमा'
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
पुस्तक समीक्षा- धूप के कतरे (ग़ज़ल संग्रह डॉ घनश्याम परिश्रमी नेपाल)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■एक शेर और■
■एक शेर और■
*प्रणय प्रभात*
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
"मीरा के प्रेम में विरह वेदना ऐसी थी"
Ekta chitrangini
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
जिसको ढूँढा किए तसव्वुर में
जिसको ढूँढा किए तसव्वुर में
Shweta Soni
हिंदी
हिंदी
Mamta Rani
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
धरी नहीं है धरा
धरी नहीं है धरा
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
दिल के इस दर्द को तुझसे कैसे वया करु मैं खुदा ।
Phool gufran
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
अपनी चाह में सब जन ने
अपनी चाह में सब जन ने
Buddha Prakash
बारह ज्योतिर्लिंग
बारह ज्योतिर्लिंग
सत्य कुमार प्रेमी
दोहावली
दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
राज्य अभिषेक है, मृत्यु भोज
Anil chobisa
राशिफल
राशिफल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज बुजुर्ग चुप हैं
आज बुजुर्ग चुप हैं
VINOD CHAUHAN
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
फूलों की बात हमारे,
फूलों की बात हमारे,
Neeraj Agarwal
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
*हमारे देवता जितने हैं, सारे शस्त्रधारी हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
Infatuation
Infatuation
Vedha Singh
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
गुरुर
गुरुर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...