Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2022 · 1 min read

शादी से पहले और शादी के बाद

वह क्या खूब फबता था, अपनी शादी से पहले।
अब वह राख मलता है , अपनी शादी के बाद।।
बहारों में चलता था, अपनी शादी से पहले।
अब सड़कों पे सोता है , अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था——————।।

वह महफ़िल जमाता था, अपनी शादी से पहले।
वह क्या खूब हंसता था, अपनी शादी से पहले।।
घर में बैठा शोक मनाता है, अपनी शादी के बाद।
अब वो खूब रोता है ,अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था—————–।।

अपनी शादी से पहले , हसीन देखे थे उसने ख्वाब।
होटल में खाना खाता था, बनकर दीवाना और नवाब।।
सब से अब पर्दा करता है, अपनी शादी के बाद।
उधारी करता है सबसे, अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था——————-।।

हुस्न की करता था तारीफ, खत मुहब्बत के लिखता था।
हुक्म सब पर चलाता था,खुद को जी.आज़ाद कहता था।।
खत -ए-तलाक लिखता है, अपनी शादी के बाद।
गुलामी तुक की करता है, अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था——————-।।

रचनाकार एवं लेखक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
पता- ग्राम -ठूँसरा ,पोस्ट- गजनपुरा
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
Vishal babu (vishu)
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
Kshma Urmila
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
*** आशा ही वो जहाज है....!!! ***
VEDANTA PATEL
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
संघर्ष
संघर्ष
Sushil chauhan
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
तुम इतना जो मुस्कराती हो,
Dr. Nisha Mathur
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मत पूछो मुझ पर  क्या , क्या  गुजर रही
मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही
श्याम सिंह बिष्ट
- दिल का दर्द किसे करे बयां -
- दिल का दर्द किसे करे बयां -
bharat gehlot
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
Neeraj Agarwal
फूल ही फूल
फूल ही फूल
shabina. Naaz
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
दर्शक की दृष्टि जिस पर गड़ जाती है या हम यूं कहे कि भारी ताद
Rj Anand Prajapati
देशभक्ति का राग सुनो
देशभक्ति का राग सुनो
Sandeep Pande
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
कोशिश कम न थी मुझे गिराने की,
कोशिश कम न थी मुझे गिराने की,
Vindhya Prakash Mishra
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
मिलेंगे कल जब हम तुम
मिलेंगे कल जब हम तुम
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-137💐
💐अज्ञात के प्रति-137💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही  दुहराता हूँ,  फिरभ
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही दुहराता हूँ, फिरभ
DrLakshman Jha Parimal
✍️वास्तव....
✍️वास्तव....
'अशांत' शेखर
Loading...