Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#26 Trending Author
May 21, 2022 · 1 min read

शादी से पहले और शादी के बाद

वह क्या खूब फबता था, अपनी शादी से पहले।
अब वह राख मलता है , अपनी शादी के बाद।।
बहारों में चलता था, अपनी शादी से पहले।
अब सड़कों पे सोता है , अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था——————।।

वह महफ़िल जमाता था, अपनी शादी से पहले।
वह क्या खूब हंसता था, अपनी शादी से पहले।।
घर में बैठा शोक मनाता है, अपनी शादी के बाद।
अब वो खूब रोता है ,अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था—————–।।

अपनी शादी से पहले , हसीन देखे थे उसने ख्वाब।
होटल में खाना खाता था, बनकर दीवाना और नवाब।।
सब से अब पर्दा करता है, अपनी शादी के बाद।
उधारी करता है सबसे, अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था——————-।।

हुस्न की करता था तारीफ, खत मुहब्बत के लिखता था।
हुक्म सब पर चलाता था,खुद को जी.आज़ाद कहता था।।
खत -ए-तलाक लिखता है, अपनी शादी के बाद।
गुलामी तुक की करता है, अपनी शादी के बाद।।
वह क्या खूब फबता था——————-।।

रचनाकार एवं लेखक-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
पता- ग्राम -ठूँसरा ,पोस्ट- गजनपुरा
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

82 Views
You may also like:
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ये चिड़िया
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
उसको बता दो।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
✍️इंतज़ार के पल✍️
"अशांत" शेखर
सिपाही
Buddha Prakash
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
An abeyance
Aditya Prakash
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
जीवन
Mahendra Narayan
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
*** वीरता
Prabhavari Jha
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
ऊँच-नीच के कपाट ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
Loading...