Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 6, 2016 · 1 min read

शहीदों के लहू का वो …: गीत

कारगिल के शहीद कैप्टेन मनोज कुमार पाण्डेय को समर्पित…
(जन्म : 25 जून 1975, सीतापुर, उत्तर प्रदेश — वीरगति: 3 जुलाई 1999, कश्मीर)

शहीदों के लहू का वो फुहारा याद आता है
वो मंजर याद आते हैं नज़ारा याद आता है

लिखी है हमने आजादी इबारत खूँ के कतरों से
मिटाने को उसे भी हम लगे हैं नाज़ नखरों से
बहुत दिल पर चले आरे दोबारा याद आता है
वो मंजर याद आते हैं नज़ारा याद आता है
शहीदों के लहू का वो ……………………………………

हमी दुश्मन हैं अपनों के खुदी पे वार करते हैं
लगाते घाव अपनों को नहीं वो प्यार करते हैं
मिटा डाला वो अपनापन बेचारा याद आता है
वो मंजर याद आते हैं नज़ारा याद आता है
शहीदों के लहू का वो ……………………………………

अभी भी कुछ न बिगड़ा है संभल जाओ मेरे भाई
नशा दौलत का छोडो अब चले आओ मेरे भाई
न खेलो खेल खुदगर्जी, सहारा याद आता है
वो मंजर याद आते हैं नज़ारा याद आता है
शहीदों के लहू का वो ……………………………………

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

643 Views
You may also like:
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
हमलोग
Dr.sima
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
देखो
Dr.Priya Soni Khare
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
नजरों की तलाश
Dr. Alpa H. Amin
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
खुशबू
DESH RAJ
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
Loading...