Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 30, 2016 · 1 min read

शहंशाह

जो बीत गया पल
सुख का भी था
दुःख का भी
मन में था बोझ
बीते पल का जो
आनंद की लहरो को उठने नहीं देता था,
जाने क्यों व्यर्थ बोझ ढो रहा था
आनंद को खोज रहा था बाहर की
दुनियां में,भटकते भटकते अंदर उतर गया
हल्का और शांत हो गया
व्यर्थ के बोझ से
वहां आनंद था केवल आनंद
जिसको पाकर शहंशाह के भी शहंशाह
हो गए फकीर***
^^^दिनेश शर्मा^^^

1 Comment · 186 Views
You may also like:
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
हम सब एक है।
Anamika Singh
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन
शेख़ जाफ़र खान
पल
sangeeta beniwal
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
दया करो भगवान
Buddha Prakash
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
Loading...