Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

“शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए”

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

तुमने बोला हम ठहर गये,
न गांव गये न शहर गये,
फिर क्यों ऐसे हालात हुए,
जो उम्मीद के रास्ते बदल गये।
इल्जाम लगाऊं क्या तुम पर,
गलती खुद का है ठान लिया,
जब मरना मुझको वैसे भी है,
कलेजे के टुकड़े को थाम लिया।
मत देखो पांव के मेरे चप्पल,
न पैरों के छाले का दर्द समझो,
भीड़ की गठरी बने हैं जो हम,
इस मजबूरी का आलम मत समझो।
बात सवा सौ करोड़ की करते हो,
हम मुठ्ठी भर ही तो लोग फंसे थे,
लेकिन हर सपने सबके चूर हुए,
फोटो तो वायरल खूब हुए,
लेकिन रोटी के लिए मजबूर हुए।
गलती तेरी कुछ भी नहीं,
न शिकवा शिकायत है तुमसे,
शर्म मुझे आती है खुद पर,
आखिर हम क्यों मजदूर हुए।

2 Likes · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
शहीदों को नमन
शहीदों को नमन
Dinesh Kumar Gangwar
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
हाथ पर हाथ धरे कुछ नही होता आशीर्वाद तो तब लगता है किसी का ज
Rj Anand Prajapati
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
■ ऐसा लग रहा है मानो पहली बार हो रहा है चुनाव।
*Author प्रणय प्रभात*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
* टाई-सँग सँवरा-सजा ,लैपटॉप ले साथ【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
There is no shortcut through the forest of life if there is
There is no shortcut through the forest of life if there is
सतीश पाण्डेय
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"लू"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
जाओ तेइस अब है, आना चौबिस को।
सत्य कुमार प्रेमी
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
जीना सिखा दिया
जीना सिखा दिया
Basant Bhagawan Roy
फिरौती
फिरौती
Shyam Sundar Subramanian
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
2268.
2268.
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...