शराब मत पीना

कोय दारु ना पियो भाइयों या स घणी खोटी।
छुड़वा दे स या दारु भाइयों मानस की रोटी।।

शुरू शुरू म्ह शौकियां पीवैं फेर होज्यां आदि।
इस दारु के कारण बड़े बड़ां की होगी बर्बादी।
एक दारु कारण रोज टूटैं सँ शगाई ब्याह शादी।
दारू के ऐब तै बढ़ कै ना स कोय बीमारी मोटी।।

देखै दारू के कारण सत्तर बिमारी लाग ज्यां।
टोटा आज्या घर म्ह, सारी ख़ुशी दूर भाग ज्यां।
पी कै दारू करैं लड़ाई पड़ोसी ताहीं जाग ज्यां।
बालकां नै वो रोज पीटै अर बहु की पाड़ै चोटी।।

अड़ोसी पड़ोसी भाईचारे आलै रोज समझावैं।
यारे प्यारे रिश्तेदार पां पकड़ कै उसणै मनावैं।
पर उसकै एक ना लागै सारी सर पर कै जावैं।
नशे की हालत म्ह वो करण लाग ज्या कार छोटी।।

आखर म्ह तंग आ कै घर आली फाँसी खाज्या।
घर उजड़ै पाछै उसकै सारी समझ म्ह आज्या।
घर बाहर कै सारे काम करै हांडे भाज्या भाज्या।
सीखण खातर कविताई सुलक्षणा नै डाँट ओटी।।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 276 Views
You may also like:
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
जीवन
Mahendra Narayan
ख्वाब
Swami Ganganiya
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
**किताब**
Dr. Alpa H.
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
पिता का दर्द
Nitu Sah
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
तन्हाई
Alok Saxena
किताब...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां-बाप
Taj Mohammad
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
लिहाज़
पंकज कुमार "कर्ण"
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
कलयुग की पहचान
Ram Krishan Rastogi
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...