Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

शराब मत पीना

कोय दारु ना पियो भाइयों या स घणी खोटी।
छुड़वा दे स या दारु भाइयों मानस की रोटी।।

शुरू शुरू म्ह शौकियां पीवैं फेर होज्यां आदि।
इस दारु के कारण बड़े बड़ां की होगी बर्बादी।
एक दारु कारण रोज टूटैं सँ शगाई ब्याह शादी।
दारू के ऐब तै बढ़ कै ना स कोय बीमारी मोटी।।

देखै दारू के कारण सत्तर बिमारी लाग ज्यां।
टोटा आज्या घर म्ह, सारी ख़ुशी दूर भाग ज्यां।
पी कै दारू करैं लड़ाई पड़ोसी ताहीं जाग ज्यां।
बालकां नै वो रोज पीटै अर बहु की पाड़ै चोटी।।

अड़ोसी पड़ोसी भाईचारे आलै रोज समझावैं।
यारे प्यारे रिश्तेदार पां पकड़ कै उसणै मनावैं।
पर उसकै एक ना लागै सारी सर पर कै जावैं।
नशे की हालत म्ह वो करण लाग ज्या कार छोटी।।

आखर म्ह तंग आ कै घर आली फाँसी खाज्या।
घर उजड़ै पाछै उसकै सारी समझ म्ह आज्या।
घर बाहर कै सारे काम करै हांडे भाज्या भाज्या।
सीखण खातर कविताई सुलक्षणा नै डाँट ओटी।।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 424 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
Arvind trivedi
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं
VINOD CHAUHAN
चुपके से तेरे कान में
चुपके से तेरे कान में
Dr fauzia Naseem shad
!! दो अश्क़ !!
!! दो अश्क़ !!
Chunnu Lal Gupta
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
एक मोम-सी लड़की रहती थी मेरे भीतर कभी,
ओसमणी साहू 'ओश'
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
Satish Srijan
due to some reason or  excuses we keep busy in our life but
due to some reason or excuses we keep busy in our life but
पूर्वार्थ
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
सोच समझकर कीजिए,
सोच समझकर कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
निःशब्द- पुस्तक लोकार्पण समारोह
निःशब्द- पुस्तक लोकार्पण समारोह
Sahityapedia
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
सबक
सबक
Shekhar Chandra Mitra
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Sangeeta Sangeeta
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
डर-डर से जिंदगी यूं ही खत्म हो जाएगी एक दिन,
manjula chauhan
■ आक्रमण...
■ आक्रमण...
*Author प्रणय प्रभात*
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
शार्टकट
शार्टकट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
Loading...