Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

शरद पूर्णिमा

यह शरद पूर्णिमा का शशांक,
खिल गया तीव्र लेकर उजास।

पावन बृजभूमि अधीर हुई,
यमुना की लहरों में हलचल।
हो गया दृश्य रमणीक रम्य
खिल उठे सरोवर के शतदल।

गिर रही मरीचि सुधा -भू -पर,
बुझ रही धरा की रिक्त प्यास।

मोहन सिर मोर मुकुट सुन्दर,
अधरों पर वेणु रंग श्यामल।
श्रंगार करें सजती सखियाँ
पैंरों में बाँध रही पायल।

गोपियाँ अधिक हैं कृष्ण एक
मन में है सबके एक आस।

गिरधर ने मन की आस पढ़ी
सखियों सम रूप रखे अपने।
हो गए सभी के संग कृष्ण
निधिवन में रास लगे रचने।

राधा संग नृत्य करे कान्हा,
कितना अनुपम यह महारास।

खिल रही चंद्र की घटा रुचिर,
ब्रम्हांड प्रभावित गिरधर से।
है महाप्रीत की प्रेम निशा
अमृत्व बरसता अम्बर से।

गुंजायमान मुरली की धुन,
कर रही सिक्त हर साँस साँस।

देवो में बजी दुंदभी है,
मेघो में छिड़ा घोर गर्जन।
सब जीव जंतु व वन उपवन,
कर धन्य हुए लीला दर्शन।

सोलह कलाओ से चंद्र युक्त
कर रहा अवनि भर में प्रकाश।

बृजभूमि में रास रचो प्रभु ने
कर दिए धन्य सब पुण्य धाम।
आते हैं भक्त अनेक यहाँ,
नतमस्तक हो करते प्रणाम।

देते इस अपने सेवक को,
निज चरणों में नटवर निवास।

अभिनव मिश्र अदम्य

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
चकोर हूं मैं कभी चांद से मिला भी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नदी
नदी
Kumar Kalhans
ना छीनो जिंदगी से जिंदगी को
ना छीनो जिंदगी से जिंदगी को
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*Author प्रणय प्रभात*
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
तेरी तसवीर को आज शाम,
तेरी तसवीर को आज शाम,
Nitin
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
"व्यवहार"
Dr. Kishan tandon kranti
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
Buddha Prakash
महाकाल का संदेश
महाकाल का संदेश
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*हम हैं दुबले सींक-सलाई, ताकतवर सरकार है (हिंदी गजल)*
*हम हैं दुबले सींक-सलाई, ताकतवर सरकार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...