Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

शब्द

शब्द
प्यार का इजहार
मौन से भी तो….
शब्दों का क्या
अपनी ही कही बात को
बेमलब किये देते हैं।
संगीता बैनीवाल

1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पुत्र एवं जननी
पुत्र एवं जननी
रिपुदमन झा "पिनाकी"
संत रविदास
संत रविदास
मनोज कर्ण
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
दुष्यन्त 'बाबा'
मन से मन को मिलाओ सनम।
मन से मन को मिलाओ सनम।
umesh mehra
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
आज की पंक्तिजन्म जन्म का साथ
कार्तिक नितिन शर्मा
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
Subhash Singhai
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
Dr. Man Mohan Krishna
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
*Author प्रणय प्रभात*
*ढोलक (बाल कविता)*
*ढोलक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
पूर्वार्थ
Loading...