Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

शब्दों का झंझावत🙏

शब्दों का झंझावात
🔵🔵🔵🔵🔵🔵
शब्दों का है खेल जगत में
इससे बड़ा ना कोई जग में

कवि की वाणी शब्द समूह
तोड़ तंगड़ जोड़ जुगाड़ मेल

भाव भावना व्यापक शब्द
उगलता आग बरसता पानी

शब्दों का अथाह सागार है
वाणी से निकला शब्दअमर

तरकश निकला तीर कमान
पुनः आपस ना कभी आता

पर प्यार वेदना छोड़ जाता
झंझट झंझा झगड़ा तगड़ा

काया माया भक्ति शक्ति शब्द
ढ़ीला ढ़ाला ढ़क्कन ढ़क्का

धक्का मुक्की ढ़ेलम ढेला
ढ़ाल तलबार युद्ध बिकराल

ठंडा गरम लचक लचीला
मिल जुल प्यार अपनापन

रंग रूप भेष भाषा हैअनेक
धर्म कर्म आस्था मज़हब है

विविध पर तन तरंगित लाल
लहु एक शब्द भाव अलगाव

शब्द रिपु बन उठता कृपाण
बंदन राखी प्रेमी का माला

मिल गले कहता ईदमुबारक
शब्दों की शक्ति ऊर्जा अक्षम

काली काल क्षण विषय विषम
निज अलगाव एहशास पराये

दूजे में अपनापन शब्द निराले
अंदाज अलग मस्तिष्क तन

तनाव प्रबंधन मुद्दा गरम नरम
शब्द झंझावातों में आग पानी

पानीपत रामायण महाभारत
अनेकों इतिहास बनी कहानी

चयनित शब्द वाणी व्यवहार
अमन चैन बन दूर करें बैचैनी

कह कविवर जग छोड़ गए
ऐसी वाणी बोलिए मन का

आपा खोए औरन को शीतल
करे आपहुँ शीतल होय ।

शब्द एक अर्थ अनेकों इनके
मोल जोल समझ व्यवहारिक

रूप श्रृंगारित साज सजाना है
प्यार मुहब्बत में जग जीना है

🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵🙏

तारकेशवर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
वीर जवान --
वीर जवान --
Seema Garg
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
अब तू किसे दोष देती है
अब तू किसे दोष देती है
gurudeenverma198
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
👩‍🌾कृषि दिवस👨‍🌾
👩‍🌾कृषि दिवस👨‍🌾
Dr. Vaishali Verma
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वोट डालने जाएंगे
वोट डालने जाएंगे
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
ओ जोगी ध्यान से सुन अब तुझको मे बतलाता हूँ।
ओ जोगी ध्यान से सुन अब तुझको मे बतलाता हूँ।
Anil chobisa
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
🙅आज का शेर🙅
🙅आज का शेर🙅
*प्रणय प्रभात*
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
2667.*पूर्णिका*
2667.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
सावित्रीबाई फुले और पंडिता रमाबाई
Shekhar Chandra Mitra
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
ऋतुराज
ऋतुराज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
लिखू आ लोक सँ जुड़ब सीखू, परंच याद रहय कखनो किनको आहत नहिं कर
लिखू आ लोक सँ जुड़ब सीखू, परंच याद रहय कखनो किनको आहत नहिं कर
DrLakshman Jha Parimal
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
कभी ज्ञान को पा इंसान भी, बुद्ध भगवान हो जाता है।
Monika Verma
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक
एक
हिमांशु Kulshrestha
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
Loading...