Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

शबे- फित्ना

शबे- फित्ना

बिखरने दो धूप को
आसमाँ को नंगे पांव चलने दो
गलने दो ये दाग़ दिल के
३मता- ए- नफस हमें नहीं चाहिए
सो गई जमीं तो, तारे नींद उगलने दो
पांव हैं बहुरंगी सर तक
उस नज़र पर ४बार है , तो क्या हुआ?

रात के ख़ामोशी में, मुझको सजाएँ है तो क्या
ढूँढ लाओ महताब मेरा… रोशनी हैं तो क्या

जवाब रखके चलो तुम
१शबे – फित्ना है मेरी
रात के दूधिया – सा आँचल
ख़ूब नहाया २हब्स- सा होकर
नहीं है इश्क अब… जाने दो उसे, जाने दो!
वो चीज पराई क्या?
जो रूठ जाएँ हमेशा ही

ख़ामोश जंजीर में बंधकर ही, न जाओ तुम यारा
कैसे जिएगा ये दिल जो नाम याद करता है तुम्हारा

१ उपद्रव की रात २ उमस ३ साँसों की पूंजी ४ बोझ

– मनोज कुमार
गोंडा उत्तर प्रदेश

224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
💐प्रेम कौतुक-516💐
💐प्रेम कौतुक-516💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
हो देवों के देव तुम, नहीं आदि-अवसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
3281.*पूर्णिका*
3281.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
मैं तो महज तकदीर हूँ
मैं तो महज तकदीर हूँ
VINOD CHAUHAN
"घर बनाने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Sakshi Tripathi
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
प्रेम
प्रेम
Ranjana Verma
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
सिर्फ बेटियां ही नहीं बेटे भी घर छोड़ जाते है😥😥
पूर्वार्थ
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
अभिरुचि
अभिरुचि
Shyam Sundar Subramanian
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
*पाते जन्म-मरण सभी, स्वर्ग लोक के भोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...