Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 28, 2017 · 1 min read

शक्ति

शक्ति:

धुंधली-2 सी परछाई।
विहिव्ल मन पर छाई।
दया दृष्टि पाने को तेरी।
यों आँख मेरी भरआई।
शक्ति का स्वरूप है तू !
हर ओर तिमिर माँ धूप है तू !
आँचल तेरा नील गगन सा।
निशा विभावरी बन आई।
तेरी दया की कोर चाहिये।
यहाँ-वहाँ हर छोर चाहिये।
उजली-निखरी भोर चाहिये।
नव-निर्मित चहु ओर चाहिये।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

161 Views
You may also like:
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
न्याय
Vijaykumar Gundal
सीख
Pakhi Jain
मिसाइल मैन
Anamika Singh
प्यार करके।
Taj Mohammad
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
चौपाई छंद में सौलह मात्राओं का सही गठन
Subhash Singhai
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
दरारों से।
Taj Mohammad
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
जीना अब बे मतलब सा लग रहा है।
Taj Mohammad
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
मुंह की लार – सेहत का भंडार
Vikas Sharma'Shivaaya'
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
Loading...