Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2017 · 1 min read

शक्ति

शक्ति:

धुंधली-2 सी परछाई।
विहिव्ल मन पर छाई।
दया दृष्टि पाने को तेरी।
यों आँख मेरी भरआई।
शक्ति का स्वरूप है तू !
हर ओर तिमिर माँ धूप है तू !
आँचल तेरा नील गगन सा।
निशा विभावरी बन आई।
तेरी दया की कोर चाहिये।
यहाँ-वहाँ हर छोर चाहिये।
उजली-निखरी भोर चाहिये।
नव-निर्मित चहु ओर चाहिये।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Language: Hindi
300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
■ दोहा / इन दिनों...
■ दोहा / इन दिनों...
*Author प्रणय प्रभात*
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
कुत्ते का श्राद्ध
कुत्ते का श्राद्ध
Satish Srijan
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
निःशब्द- पुस्तक लोकार्पण समारोह
निःशब्द- पुस्तक लोकार्पण समारोह
Sahityapedia
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
मैं तेरा कृष्णा हो जाऊं
bhandari lokesh
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
"भीमसार"
Dushyant Kumar
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
इस सियासत का ज्ञान कैसा है,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
माना नारी अंततः नारी ही होती है..... +रमेशराज
कवि रमेशराज
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
सपने जब पलकों से मिलकर नींदें चुराती हैं, मुश्किल ख़्वाबों को भी, हक़ीक़त बनाकर दिखाती हैं।
Manisha Manjari
Bachpan , ek umar nahi hai,
Bachpan , ek umar nahi hai,
Sakshi Tripathi
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
💐अज्ञात के प्रति-144💐
💐अज्ञात के प्रति-144💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*
*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जीवन तब विराम पाता है
जीवन तब विराम पाता है
Dr fauzia Naseem shad
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आहुति
आहुति
Khumar Dehlvi
3046.*पूर्णिका*
3046.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीत।।। ओवर थिंकिंग
गीत।।। ओवर थिंकिंग
Shiva Awasthi
Loading...