Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

वफ़ा मानते रहे

ग़ज़ल

हम दिल जिगर से उनको,खुदा मानते रहे
उनके ही दिल को अपना ,पता मानते रहे

जो उनकी धड़कनों से ,किसी ने किया अलग
अपनी नज़र में अपनी , कज़ा मानते रहे

सैलाब धूप धुंध , खिजाँ बारिशें बहार
यूँ हसरतों के दर को ,वफ़ा मानते रहे

था सिलसिला नया जो ,बहुत प्यार से उसे
हम इश़्क की नसीन , हया मानते रहे

नज़रें लगीं उन्हीं पे ,नज़ारों से काम क्या
हर वक्त हम उन्हीं का , कहा मानते रहे

साँसों को धडकनों से ,सुधा जोड़ कर कहे
हम सादगी से हिज्र , सजा मानते रहे

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
23/9/2022
वाराणसी,©®

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज तक की गणना के अनुसार।
■ आज तक की गणना के अनुसार।
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
gurudeenverma198
दलित के भगवान
दलित के भगवान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
Dr Archana Gupta
देखा है जब से तुमको
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
Seema gupta,Alwar
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
3001.*पूर्णिका*
3001.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* संस्कार *
* संस्कार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
💐अज्ञात के प्रति-26💐
💐अज्ञात के प्रति-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
"ये याद रखना"
Dr. Kishan tandon kranti
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
तथाकथित धार्मिक बोलबाला झूठ पर आधारित है
Mahender Singh
बाजार  में हिला नहीं
बाजार में हिला नहीं
AJAY AMITABH SUMAN
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वहशीपन का शिकार होती मानवता
वहशीपन का शिकार होती मानवता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
मेहनती मोहन
मेहनती मोहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...