Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

व्यस्तता जीवन में होता है,

व्यस्तता जीवन में होता है,
तय करना आपको है,
कहाँ व्यस्त होना है?
कहाँ नहीं?

बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 391 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जिंदगी हमें किस्तो में तोड़ कर खुद की तौहीन कर रही है
जिंदगी हमें किस्तो में तोड़ कर खुद की तौहीन कर रही है
शिव प्रताप लोधी
राखी
राखी
Shashi kala vyas
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
रोटी की क़ीमत!
रोटी की क़ीमत!
कविता झा ‘गीत’
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
2882.*पूर्णिका*
2882.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
कोई जब पथ भूल जाएं
कोई जब पथ भूल जाएं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
*चाँद कुछ कहना है आज * ( 17 of 25 )
Kshma Urmila
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
*कुमुद की अमृत ध्वनि- सावन के झूलें*
रेखा कापसे
सुंदरता के मायने
सुंदरता के मायने
Surya Barman
"नायक"
Dr. Kishan tandon kranti
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शिकवा गिला शिकायतें
शिकवा गिला शिकायतें
Dr fauzia Naseem shad
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
■ eye opener...
■ eye opener...
*प्रणय प्रभात*
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
" आखिर कब तक ...आखिर कब तक मोदी जी "
DrLakshman Jha Parimal
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Loading...