Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

वो हराभरा पेड़

कल तक यहाँ एक हरा भरा पेड़ हुआ करता था
जिसकी छाँव में गाँव के बच्चे खेला करते थे
युवाओं की नयी योजनाये बनती थी
बुजुर्गों की चौपाल लगा करती थी
हर रोज़ एक नया रंग जमता था
तमाम पक्षियों का आशियाना था वो पेड़
पक्षियों की मधुर आवाज के साथ सूरज उगता था
उनके कलरव से ही शाम ढलती थी
उसी पेड़ के नीचे बैठकर सभी सपने बुना करते थे
एक रोज़ एक सरकारी पैगाम आया
गाँव में पक्की सड़क पास हुई थी
मगर एक समस्या आन खड़ी थी
वो पेड़ सड़क के बीच में आ रहा था
ठेकेदार भी सड़क को नक़्शे से ज़रा भी नहीं हटा रहा था
गाँव कि उस सबसे बुज़ुर्ग निशानी को गिरा दिया गया.
सड़क कुछ ही आगे बढ़ी थी एक और अड़चन खड़ी हुई
बीच में सेक्रेटरी का मकान आ गया था
अगली सुबह जब हम घर से निकले तो देखा
सेक्रेटरी के पडोसी का माकन गिरा दिया गया था
और रास्ते में एक बड़ा सा मोड़ दिया गया था
जो गिरा वो एक गरीब का मकान था
वो बेचारा सिवाए रोने के कुछ कर ही नहीं सकता था
ना तो वो लड़ सकता था और ना ही विरोध कर सकता था
वो तो हालातों का मारा था
उस पर एक और मार पड़ी थी
इस तरह सड़क ने ना जाने कितने बेजुबानो का आशियाना छीन लिया
गरीब भी तो एक बेजुबान ही तो होता है
बेचारा जुबान वाला होकर भी बेजुबानो की तरह जीता है
रोज़ ना जाने कितने अपमानों का घूँट पीता है
गर वो पेड़ बोल पाता तो ज़रूर अपनी जान की गुहार लगाता
शायद सेक्रेटरी की तरह वो भी कुछ जुगत लगाता
और इतने बेजुबानों का आशियाना बच जाता
मगर वो हम मतलबी मनुष्यों के बीच में था
उसने हमे कितना कुछ दिया
हमने भी तो उसके लिए कुछ नहीं किया
आज बस अलग अलग बैठे हुए अपने अपने सपने बुनते हैं
ना किसी को कुछ बता पाते हैं
ना बुजुर्गो कि नसीहते ही सुन पाते हैं
आज जब वो बड़ा सा पेड़ नहीं है
तो हम सोचते हैं कि वो सिर्फ पेड़ नहीं था
हम सभी के जीवन कि पाठशाला था
जिसकी छाँव में हमने हमेशा कुछ न कुछ नया सीखा
वो धरोहर था हमारे गाँव की जिसे हम सहेज भी ना सके

“सन्दीप कुमार”

3 Comments · 227 Views
You may also like:
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
तेरा प्यार।
Taj Mohammad
हम और... हमारी कविताएँ....
Dr. Alpa H. Amin
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
मज़ाक बन के रह गए हैं।
Taj Mohammad
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
जीवन
vikash Kumar Nidan
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H. Amin
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*!* हट्टे - कट्टे चट्टे - बट्टे *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
“ कोरोना ”
DESH RAJ
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
"अशांत" शेखर
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
"अशांत" शेखर
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...