Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2024 · 2 min read

वो सुहाने दिन

कभी लड़ाई कभी खिचाई, कभी हँसी ठिठोली थी
कभी पढ़ाई कभी पिटाई, बच्चों की ये टोली थी

एक स्थान है जहाँ सभी हम, पढ़ने लिखने आते थे
बड़े प्यार से गुरु हमारे, हम सबको यहाँ पढ़ाते थे

कोई रटे है ” क ख ग घ”, कोई अंग्रेजी के बोल कहे
पढ़े पहाड़ा कोई यहां पर, कोई गुरु की डाँट सहे

एक यहां पर बहुत तेज़ था, दूजा बिलकुल ढीला था
एक ने पाठ याद कर लिया, दूसरे का चेहरा पीला था

कमीज़ तंग थी यहाँ किसी की, पतलून किसी की ढीली थी
किसी ने अपने फटे झोले को, अपने हाथों से सी ली थी

कपडे चमके यहाँ किसी के, किसी का बिलकुल मैला था
पन्नी था पास किसी के, और पास किसी के थैला था

भले ना जाने एक दूजे को, यहां पर कोई गैर न था
गन्दे थे हर हाथ यहाँ पर, पर मन में कोई मैल न था

कोई किसी को पिछे छोड़े, आपस में ऐसी होर नहीं
भीड़ बहुत थी यहाँ पर लेकिन, कोलाहल थी शोर नहीं

मैं ऊंचा हूँ मैं अच्छा हूँ, ऐसी कोई बात नहीं
जीवन भर की यादें हैं ये, एक दो दिन का साथ नहीं

सबको साथ लेकर चलना, ऐसे ही भाव पनपते है
गुरुओं के मेहनत से ही, तब ऐसे चरित्र उभरते हैं

बात बात में हँसना रोना, अब याद बहुत ही आता है
खोया हुआ बचपन यारो, लौट कर कब यूं आता है

आज जो निकला पास से उसके, पैर वहीं पर ठिठक गए
अपने बचपन की सब यादें , एक क्षण ही सिमट गए

एक ललक है दिल मे अपने, फिर सबसे हम मिल जाए
कुछ न सोचें, कुछ न समझे, फिर हम बच्चे बन जाए

एक पते पर सारी खुशियाँ,हम को यु ही मिल पाएं
थैला टाँगे कंधे पर हम,फिर, दौड़े, स्कूल पहुँच जाएं

Language: Hindi
98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
"नव प्रवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
Ravi Prakash
है नसीब अपना अपना-अपना
है नसीब अपना अपना-अपना
VINOD CHAUHAN
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
यादों की सफ़र
यादों की सफ़र"
Dipak Kumar "Girja"
वाणी से उबल रहा पाणि
वाणी से उबल रहा पाणि
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
शेखर सिंह
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
मेरे जीवन में सबसे
मेरे जीवन में सबसे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो
Basant Bhagawan Roy
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
हौसला बुलंद और इरादे मजबूत रखिए,
Yogendra Chaturwedi
हम यहाँ  इतने दूर हैं  मिलन कभी होता नहीं !
हम यहाँ इतने दूर हैं मिलन कभी होता नहीं !
DrLakshman Jha Parimal
वोटर की पॉलिटिक्स
वोटर की पॉलिटिक्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी मोहब्बत का चाँद
मेरी मोहब्बत का चाँद
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
Shweta Soni
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
हम उस पीढ़ी के लोग है
हम उस पीढ़ी के लोग है
Indu Singh
फूल और तुम
फूल और तुम
Sidhant Sharma
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
*मैं और मेरी चाय*
*मैं और मेरी चाय*
sudhir kumar
Loading...