Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं

वो सुन के इस लिए मुझको जवाब देता नहीं
सवाल उस से कोई आख़री न कर बैठूं

Wo sun ke is liye mujhko jawab deta nahin
Sawal us sey koyi aakhiri na kar baithun
~Aadarsh Dubey

179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2842.*पूर्णिका*
2842.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समरथ को नही दोष गोसाई
समरथ को नही दोष गोसाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क़ का दामन थामे
इश्क़ का दामन थामे
Surinder blackpen
मजदूर दिवस पर विशेष
मजदूर दिवस पर विशेष
Harminder Kaur
जीवन तब विराम
जीवन तब विराम
Dr fauzia Naseem shad
*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*
*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
it's a generation of the tired and fluent in silence.
it's a generation of the tired and fluent in silence.
पूर्वार्थ
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
ऐसे कैसे छोड़ कर जा सकता है,
ऐसे कैसे छोड़ कर जा सकता है,
Buddha Prakash
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
मनोरम तेरा रूप एवं अन्य मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
कवि रमेशराज
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*Author प्रणय प्रभात*
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बरसात
बरसात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
"साम","दाम","दंड" व् “भेद" की व्यथा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
कान्हा
कान्हा
Mamta Rani
खुशियों की डिलीवरी
खुशियों की डिलीवरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...